Ram Mandir Bhoomi Poojan: अयोध्या में आगामी पांच अगस्त को राम मंदिर के ‘भूमि पूजन’ समारोह के लिए जिन लोगों को आमंत्रित किया जा रहा हैं उनमें भाजपा के वयोवृद्ध नेता लालकृष्ण आडवाणी तथा मुरली मनोहर जोशी और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत शामिल हैं. दूरदर्शन द्वारा इस समारोह का सीधा प्रसारण किया जाएगा. मंदिर के ट्रस्टी ने रविवार को यह जानकारी दी. Also Read - अयोध्या में 5 तालाबों का होगा जीर्णोद्धार, रामायण युग के बताए जाते हैं ये सरोवर

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के एक सदस्य अनिल मिश्रा ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि इनके अलावा, सभी धर्मों के आध्यात्मिक नेताओं को आमंत्रित करने का विचार है. उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर सामाजिक दूरी बनाये रखने के नियम का पालन करते हुए कार्यक्रम में सीमित संख्या लगभग 200 लोगों को बुलाया जाएगा. Also Read - Ayodhya में ट्रस्‍ट ने राम मंदिर से लगी जमीन खरीदी, 107 एकड़ का परिसर बनाने का प्‍लान

उन्होंने बताया कि सूची को अंतिम रूप दिया जाना बाकी है. मिश्रा ने बताया कि मंदिर आंदोलन का हिस्सा रहे कई लोगों को आमंत्रण दिया जा रहा है, जिनमें भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और उमा भारती शामिल हैं. Also Read - BARC Report: साल 2020 में PM Modi का टेलीविजन पर रहा जलवा, दूरदर्शन ने भी किया राज, जानिए टॉप ट्रेंड

मंदिर के एक अन्य ट्रस्टी कामेश्वर चौपाल ने बताया कि आरएसएस के प्रमुख मोहन भागवत और महासचिव सुरेश भैयाजी जोशी को भी विहिप के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार के साथ कार्यक्रम के लिए आमंत्रित किया जा रहा है.

ट्रस्ट के सदस्यों के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राम मंदिर की आधारशिला रखने के लिए अयोध्या आने की संभावना है. चौपाल ने कहा कि ‘भूमि पूजन’ के लिए गुरुद्वारों, बौद्ध और जैन मंदिरों सहित सभी प्रमुख पूजा स्थलों से मिट्टी एकत्र की जा रही है.

ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने कहा कि यह स्वतंत्र भारत के इतिहास में ‘‘सबसे महत्वपूर्ण’’ कार्यक्रम होगा. उन्होंने कहा कि दूरदर्शन और अन्य चैनलों द्वारा इस कार्यक्रम का सीधा प्रसारण किया जायेगा. उन्होंने भगवान राम के भक्तों से अपील की कि वे अयोध्या आने के बजाय निकटवर्ती मंदिरों या अपने-अपने घरों में इस मौके पर उत्सव मनायें.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार राम मंदिर भूमि पूजन में पीएम मोदी केअलावा, यूपी के मुख्यमंतीर योगी आदित्यनाथ, महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे, लाल कृष्ण अडवाणी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, गृहमंत्री अमित शाह, संघ प्रमुख मोहन भागवत, राम मंदिर संघर्ष से जुड़े लोग सहित कुल 200 से 300 लोग मौजूद रहेंगे.