लखनऊ: लोकसभा चुनाव के पहले चरण के लिए उत्तर प्रदेश की विभिन्न सीटों से पर्चा दाखिल करने वाले 49 प्रत्याशियों के नामांकन जांच में अवैध पाए गए हैं. राज्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय से जारी बयान के मुताबिक प्रदेश में पहले चरण के लोकसभा चुनाव के लिए 146 उम्मीदवारों ने नामांकन दाखिल किया था जिनमें से 49 के पर्चे जांच में खारिज हो गए. इस तरह से पहले चरण में चुनाव वाली आठ लोकसभा सीटों पर अब कुल 97 उम्मीदवार रह गए हैं.

अमेठी में गांधी परिवार से छूटा ‘वफादार’ का साथ, राहुल के खिलाफ हारून लड़ेंगे चुनाव

अब सहारनपुर में 11, कैराना में 14, मुजफ्फरनगर में 10, बिजनौर में 13, मेरठ में 11, बागपत में 13, गाजियाबाद में 12 और गौतम बुद्ध नगर में 13 प्रत्याशी मैदान में रह गए हैं. पहले चरण में नाम वापसी की आखिरी तारीख 28 मार्च है. इस चरण के लिए मतदान 11 अप्रैल को होगा. उधर, दूसरे चरण के चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने का आज आखिरी दिन था. इस चरण के लिए कुल 136 उम्मीदवारों ने अपने पर्चे दाखिल किए हैं.

भाजपा में टिकट पर असंतोष, केंद्रीय मंत्री के खिलाफ हाय-हाय के नारे, समर्थकों में मारपीट

मथुरा से 25 लोगों ने किया नामांकन
दूसरे चरण में नगीना से नौ, अमरोहा से 15, बुलंदशहर से 13, अलीगढ़ से 20, हाथरस से 11, मथुरा से 25, आगरा से 18 और फतेहपुर सीकरी से 25 उम्मीदवारों ने नामांकन दाखिल किए हैं. इन नामांकन पत्रों की जांच 27 मार्च को की जाएगी जबकि नाम 29 मार्च तक वापस लिए जा सकेंगे. दूसरे चरण का मतदान 18 अप्रैल को होगा.