लखनऊ: उत्तर प्रदेश के लोकसभा व विधानसभा चुनाव में वर्ष 2004 से 2017 के बीच राजनीतिक दलों में दागियों की बाढ़ सी आ गई थी. कोई भी दल इनसे अछूता नहीं रहा है. ऐसा दावा एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफार्म्स ने अपने विश्लेषण में किया है. इस अवधि में उत्तर प्रदेश से संसद व विधानसभा पहुंचने वाले 38 प्रतिशत माननीयों की पृष्ठभूमि आपराधिक है. एडीआर के फाउंडर सदस्य प्रो़. त्रिलोचन शास्त्री व यूपी इलेक्शन वॉच के संयोजक संजय सिंह ने शुक्रवार को राजधानी में पत्रकारों से वार्ता में बताया. Also Read - यह 'नो-डेटा' सरकार है, पीएम की लोकप्रियता अब पहले जैसी नहीं रही: कांग्रेस

Also Read - बिहार चुनाव से पहले पुलिस मुख्यालय का अजीबोगरीब फरमान जारी, मचा सियासी बवाल

भारतीय वायुसेना की कार्रवाई पर बोले यूपी सीएम, नामुकिन को मुमकिन करना सिर्फ मोदी के बस की बात Also Read - बीजेपी की पूर्व MLA पारुल साहू कांग्रेस में शामिल, मंत्री के खिलाफ लड़ सकती हैं चुनाव

चल रहे आपराधिक मुकदमे

उन्होंने बताया कि 2004 से 2017 के बीच हुए लोकसभा व विधानसभा चुनाव लड़ने वाले 19971 उम्मीदवारों व 1443 सांसदों/विधायकों की पृष्ठभूमि का विश्लेषण रिपोर्ट में किया गया है. रिपोर्ट के अनुसार सपा के 42 प्रतिशत, भाजपा के 37 प्रतिशत, बसपा के 34 प्रतिशत, कांग्रेस के 35 प्रतिशत और आरएलडी से चुनकर आए 21 प्रतिशत प्रतिनिधियों ने अपने ऊपर आपराधिक मुकदमे घोषित किए हैं. इसमें 23 प्रतिशत पर हत्या, दंगा, हत्या के प्रयास, रेप जैसे गंभीर अपराधों के मुकदमे हैं.

Kumbh 2019: प्रयागराज में बना दूसरा विश्व रिकार्ड, ‘जय गंगे’ थीम की बनाई पेंटिंग

किसकी संपत्ति में कितना हुआ इजाफा

वहीं बार-बार चुने जाने वाले सांसदों-विधायकों की संपत्ति में कई गुना इजाफा हुआ है. विधानसभावार देखें तो 2012 में सर्वाधिक 45 प्रतिशतदागी चुनकर आए थे जबकि 2007 व 2012 में यह आंकड़ा 35 प्रतिशत रहा. समाजवादी पार्टी (सपा) के संरक्षक मुलायम सिंह यादव की संपत्ति 13 गुना बढ़ी है जबकि यूपीए संयोजक सोनिया गांधी की संपत्ति में लगभग 10 गुना का इजाफा हुआ है. भाजपा सांसद व केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी की संपत्ति भी पांचगुनी वृद्धि हुई है. (इनपुट एजेंसी)

चॉपर हादसे में शहीद वायु सैनिक के बेटे ने पापा… कह दी मुखाग्नि तो रो पड़ीं आंखें, आवाज आई जय हिंद