लखनऊ: सपा के साथ गठबंधन कर अगला लोकसभा चुनाव लड़ने जा रही बसपा के प्रत्याशियों की एक कथित सूची सोमवार को सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद पार्टी ने इसे फर्जी करार दिया है. बसपा के प्रदेश अध्यक्ष आरएस कुशवाहा ने शाम में जारी एक बयान में कहा कि सोशल मीडिया पर उनके फर्जी हस्ताक्षर से जारी एक पत्र को प्रमुखता से प्रचारित किया जा रहा है.

वो खतरनाक दिन, जिसे सपा से दोस्ती के बाद भी नहीं भूलीं मायावती, आज फिर बार-बार किया ज़िक्र

इसमें बसपा द्वारा 38 लोकसभा सीटों पर प्रत्याशियों के नाम भी कथित तौर पर घोषित कर दिए गए हैं, जबकि हकीकत यह है कि उन्होंने ऐसा कोई भी पत्र जारी नहीं किया है. कुशवाहा ने कहा कि वह यह भी स्पष्ट करना चाहते हैं कि अभी तक बसपा और सपा के शीर्ष नेतृत्व ने यह घोषित नहीं किया है कि उनके प्रत्याशी कौन-कौन सी सीटों पर चुनाव लड़ेंगे.

गठबंधन पर सीएम योगी बोले- अच्छा हुआ सपा-बसपा एक हो गए, अब आएगा हराने में मजा

ऐसी स्थिति में विरोधियों ने सोशल मीडिया पर पूरी तरह से फर्जी पत्र को डालकर भ्रम फैलाने की कोशिश की है, जिससे उनकी (विरोधियों की) हताशा साफ झलकती है. उन्होंने यह भी कहा कि इस तरह के फर्जी दस्तखत से पत्र जारी करना और उसे सोशल मीडिया पर डालना एक आपराधिक कृत्य है. इसके खिलाफ वह कानूनी कार्रवाई करेंगे. बता दें कि बहुजन समाज पार्टी ने अखिलेश यादव की पार्टी सपा के साथ गठबंधन किया है. दोनों पार्टियां 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेंगीं। इन सीटों पर कौन-कौन प्रत्याशी होगा, इसे लेकर कयास लगाए जा रहे हैं.