लखनऊ: गलत पेपर बंटने और पेपर व्हाट्स एप पर पेपर लीक होने के बाद यूपी पीसीएस-2017 की परीक्षा स्थगित होने पर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रदेश सरकार पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि इस सरकार में देश-प्रदेश का हर संस्थान और संविधान संकट के दौर से गुजर रहा है. अखिलेश ने कहा कि गई है. उन्होंने कहा कि परीक्षा का पेपर लीक होना सरकार की नाकामयाबी है. ये मामला भ्रष्टाचार और उनकी अहंकारी जिद का प्रतीक है. सरकार व आयोग खुद तैयार नहीं है. और अभ्यर्थियों से एक माह से कम समय में तैयारी की उम्मीद रखते हैं.

आज पेपर हुआ था लीक
बता दें कि गलत पेपर बंटने और पेपर व्हाट्स एप पर वायरल होने के बाद यूपी पीसीएस-2017 की मंगलवार की दोनों पालियों की परीक्षा स्थगित हो गई है. सुबह की पाली में सामान्य हिंदी की परीक्षा होनी थी. ऐसे में इलाहाबाद के सेंटर राजकीय इंटर कालेज में निबन्ध का पेपर बांट दिया गया और छात्रों से निबन्ध लिखने का दवाब बनाया गया, जबकि अन्य सभी जगह सामान्य हिंदी का पेपर हो रहा है. इस पर छात्रों ने हंगामा कर दिया. उधर, यूपी पीसीएस की परीक्षा के दौरान राजधानी लखनऊ के निशातगंज में पेपर आउट होने की सूचना है.

परीक्षा हुई निरस्त
जानकारी के मुताबिक, UPPCS-2017 की मेन परीक्षा में मंगलवार को इलाहाबाद जीआईसी और राजकीय इंटर कॉलेज केंद्र पर उस समय भारी हंगामा हुआ, जब छात्रों को गलत पेपर बांट दिया गया. परीक्षा के दूसरे दिन प्रथम पाली में हिन्दी की परीक्षा थी और निबंन्ध का पेपर बांट दिया गया. यह कैसे गलती कैसे हुई, इस पर मंथन चल रहा है. हालांकि यूपी लोक सेवा आयोग, इलाहाबाद की ओर से विज्ञप्ति जारी कर आज की दोनों पालियों की परीक्षा को निरस्‍त कर दिया गया है. आयोग का कहना है कि आने वाले दिनों में पुन: परीक्षा को लेकर विज्ञप्ति जारी की जाएगी.

परीक्षा के दौरान छात्रों ने किया हंगामा, आयोग पर उठाए सवाल
बता दें कि यूपी लोक सेवा आयोग की परीक्षाओं की सुचिता पर पहले से उंगली उठती रही है. 2013 से 2015 की भर्तियों की सीबीआई जांच चल रही है. इलाहाबाद में हिन्दी के स्थान पर निबंध का पेपर बांटने के बाद छात्र परीक्षाकक्ष से बाहर निकल आए और हंगामा करने लगे. अभ्यर्थी परीक्षा बंद कराने केपी कॉलेज पहुंच गए. छात्रों ने व्यवस्था पर कई सवाल उठाए, पूछा कि क्या इतनी महत्वपूर्ण परीक्षा का पेपर बिना देखे वितरित किया जाता है. क्या परीक्षकों को पता नहीं था आज कौन सा पेपर है. क्या परीक्षा केंद्रों पर सभी पेपर एक साथ आयोग पहुंचा देता है ताकि परीक्षा केंद्र जैसे चाहें उसे रखें और बांटे.