लखनऊ: भारत रत्न व देश के पूर्व प्रधानमंत्री दिवंगत अटल बिहारी वाजपेई के नाम पर लखनऊ शहर का मशहूर हजरतगंज चौराहा अब अटल चौराहा के नाम से जाना जाएगा. लखनऊ की महापौर संयुक्ता भाटिया ने शुक्रवार को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की पहली पुण्यतिथि पर इसकी आधिकारिक घोषणा की है. महापौर ने बताया कि हजरतगंज चौराहे का नाम पूर्व प्रधानमंत्री और लखनऊ से सांसद रह चुके दिवंगत अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर कर दिया गया है. अब इसे अटल चौक के नाम से जाना जाएगा.

 

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन के बाद से ही चर्चा चल रही थी कि उनके नाम पर सड़कों और चौराहों का नामकरण किया जाएगा, और उसी के तहत हजरतगंज चौराहे का नाम अटल के नाम पर किया गया है. इसके अलावा इस्माइलगंज के डिग्री कॉलेज को भी अब अटल बिहारी वाजपेयी नगर-निगम डिग्री कॉलेज के नाम से जाना जाएगा. भाटिया ने बताया, “पूर्व प्रधानमंत्री श्रद्घेय अटल बिहारी वाजपेयी जी की प्रथम पुण्यतिथि के अवसर पर जरहरा स्थित नगर निगम की पांच हेक्टेयर जमीन पर ‘अटल उदय वन’ बनाने के लिए एचसीएल फाउंडेशन के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर हुआ है.”

एचसीएल लखनऊ नगर निगम द्वारा दी गई पांच हेक्टेयर जमीन पर स्थानीय पौधों का रोपण करेगा और कई चरणों में लगभग एक लाख पौधे लगाएगा तथा इनके रखरखाव की जिम्मेदारी उठाएगा. एचसीएल फाउंडेशन इसके साथ ही अत्याधुनिक वैज्ञानिक और तकनीकी जानकारी का नगर निगम एवं क्रियान्वयन करने वाली अन्य एजेंसियों के साथ आदान-प्रदान करेगा, ताकि यहां पर चलाए जा रहे वृक्षारोपण एवं जल संरक्षण के प्रयासों में सहयाग मिले.

एमओयू की अन्य शतरें के तहत एचसीएल लखनऊ में किए जाने वाले जल संरक्षण के कार्यो के लिए तकनीकी साझेदार होगा. एमओयू की अवधि समाप्त हो जाने के बाद इन क्षेत्रों के रखरखाव की जिम्मेदारी लखनऊ नगर निगम की होगी.