लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सभापति रमेश यादव के बेटे अभिजीत यादव आज राजधानी लखनऊ स्थित उनके सरकारी आवास पर संदिग्ध परिस्थितियों में मौत से हड़कंप मच गया. इसे हत्या माना जा रहा है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गला दबाए जाने पर दम घुटने से मौत की बात सामने आई है. पुलिस के मुताबिक विधान परिषद सभापति के बेटे अभिजीत यादव (22) का शव राजधानी हजरतगंज क्षेत्र स्थित दारुलशफा में सरकारी आवास में मिला. परिजन ने उनकी मृत्यु की खबर दी थी.

लखनऊ पुलिस के एक प्रवक्ता ने बताया कि यह कुदरती मौत नहीं लग रही थी. उन्होंने बताया कि शव के गले पर निशान नजर आ रहे थे. वहीँ, एसएसपी लखनऊ कलानिधि नैथानी ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पुष्टि हुई है कि अभिजीत की मौत गला दबने से हुई है. गला दबने के कारण दम घुट गया. घटना की जांच की जा रही है. हालांकि घटना को पुलिस ने अभी सीधे तौर पर हत्या नहीं बताया है. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस घटना पर दुख जाहिर किया है. उन्होंने मृतक की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की है. साथ ही उन्होंने शोक संतप्त परिजन के प्रति संवेदना भी प्रकट की. घटना से राजनीतिक हल्के में हड़कंप है. घटना विधानसभा के बिलकुल समीप विधायक आवास दारुलशफा में हुई है.

वहीँ, बताया जा रहा है कि सभापति रमेश यादव दारुलसफा के बी ब्लॉक में रहते हैं. यहां उनकी दूसरी पत्नी मीरा यादव और उनके दो बेटे अभिजित और अभिषेक रहते थे. मीरा व अन्य परिजन अभिजीत की मौत को स्वाभिक मान अंतिम संस्कार के लिए ले जा रहे थे, तभी सूचना मिलने पर पुलिस ने उन्हें रोक लिया और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम कराया. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गला दबने से मौत की बात सामने आई. पुलिस परिजनों से घटना से संबंध में पूछताछ कर रही है. वहीँ, पोस्टमार्टम नहीं कराना सवालों के घेरे में बना हुआ है.