लखनऊ: माफिया डॉन की हत्या के मामले में बागपत जेल में बंद कुख्यात बदमाश विक्की सुनहेड़ा को आज बागपत कोर्ट में पेश किया गया. विक्की सुनहेड़ा को पुलिस सुरक्षा के बीच कोर्ट में पेशी पर लाया गया. कोर्ट में उसने कहा कि ‘वह साथ में खाना खाने वालों के साथ धोखा नहीं देता. मुन्ना बजरंगी बड़े भाई की तरह था. मैंने नहीं देखा कि उसकी हत्या कैसे हुई थी.’ बता दें कि चर्चा है कि मुन्ना बजरंगी हत्याकांड के समय विक्की सुनहेड़ा गोली मारने वाले सुनील राठी के साथ था. इसलिए आज उसे कोर्ट में पेश किया गया. बागपत जेल में सुनील राठी के पास के ही बैरक में विक्की सुनहेड़ा को रखा गया है.

जानिए कौन है ‘डॉन’ को मारने वाला कुख्यात सुनील राठी, जिसे BJP विधायक ने बताया ‘भगवान’

पीएम रिपोर्ट में सुनियोजित हत्या की आशंका
वहीं, दूसरी ओर माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ गई है. यह रिपोर्ट प्लांड मर्डर की ओर इशारा कर रही है. मुन्ना बजरंगी को सिर और सीने से सटाकर 10 गोलियां मारी गई थी. वहीं पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत के बाद किसी चोट का जिक्र नहीं है. पीएम रिपोर्ट में यह भी खुलासा हुआ है कि मुन्ना बजरंगी को मौत के बाद कोई गोली नहीं मारी गई. मुन्ना बजरंगी का पोस्टमार्टम तीन डॉक्टरों के पैनल ने किया था.

…तो क्या सिर्फ ‘मोटा’ कहने पर मार दिया गया मुन्ना बजरंगी, जान लेने वाले सुनील राठी ने बताई ये वजह

9 जुलाई को जेल में हो गई हत्या
बता दें कि बीजेपी विधायक की हत्‍या के आरोप में जेल में बंद गैंगस्‍टर मुन्‍ना बजरंगी की 9 जुलाई (सोमवार) को बागपत जेल परिसर में गोली मारकर हत्‍या कर दी गई थी. चौंकाने वाली यह घटना बागपत के जिला जेल परिसर में सुबह साढ़े छह बजे हुई थी. गोली कुख्यात अपराधी सुनील राठी ने की थी. बता दें कि मुन्‍ना बजरंगी 2005 में बीजेपी के विधायक कृष्णनंद राय की हत्या के आरोप में जेल में बंद था. मुन्ना बजरंगी को जेल में ही बंद कुख्यात अपराधी सुनील राठी ने गोलियां मार हत्या कर दी थी.

AK-47 से MLA को मारी थी 100 गोलियां, अंडरवर्ल्ड से रहा रिश्ता, एक मजदूर ने ‘डॉन’ बन ऐसे लिखा था खूनी इतिहास

केंद्रीय मंत्री पर लगाया था आरोप, सीबीआई जांच की मांग की थी
डॉन मुन्‍ना बजरंगी की पत्‍नी सीमा सिंह ने आरोप लगाया था कि पूर्व सांसद धनंजय सिंह के साथ ही केंद्रीय रेल राज्‍यमंत्री मनोज सिन्हा और पूर्व विधायक कृष्णानंद राय की पत्नी अलका राय ने कई लोगों के साथ मिलकर उसके पति की हत्या का षड्यंत्र रचा. बागपत जिला अस्पताल में सीमा सिंह ने मीडिया से बातचीत में कहा था कि धनंजय सिंह, कृष्णानंद की पत्नी अलका और मनोज सिन्हा समेत प्रदेश के कई बड़े नेताओं ने शासन-प्रशासन से मिलकर उनके पति की हत्या करा दी. सीमा ने सीबीआई जांच की मांग की थी.