लखनऊ (यूपी): केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल को राजधानी लखनऊ में भारी विरोध का सामना करना पड़ा. रेलवे मेन्स यूनियन के 70वें वार्षिक अधिवेशन में मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल होने आए रेल मंत्री के सामने पुरानी पेंशन योजना और अप्रेंटिस भर्ती की मांग को लेकर रेल कर्मी ही भड़क गए. रेल कर्मियों ने भारत सरकार मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए हंगामा करना शुरू कर दिया. मंच की ओर गमले भी फेंके. जमकर हुए हंगामे के बीच रेल मंत्री को कार्यक्रम छोड़ना पड़ गया. सुरक्षाकर्मियों ने किसी तरह रेल मंत्री को कार्यक्रम स्थल से सुरक्षित निकाला. रेल मंत्री के प्रति रेल कर्मियों के ही इस तरह से आक्रोश से हड़कंप मच गया.

अयोध्‍या में हाई अलर्ट! 14 कोसी परिक्रमा व धर्म सभाओं के मद्देनजर ATS कमांडो तैनात

रेलमंत्री की मौजूदगी में मंच की ओर फेंके गए गमले
दरअसल, बीते दिन रेल मंत्री पीयूष गोयल लखनऊ में रेलवे मेन्स यूनियन के ही कार्यक्रम में शामिल होने आए थे. उन्होंने अपने भाषण के दौरान कहा कि रेलकर्मियों की मांगों पर विचार किया जा रहा है. रेल कर्मी उनकी बात से संतुष्ट नहीं हुए. रेल मंत्री ने जैसे विचार किए जाने की बात कही, वैसे ही रेल कर्मी हंगामा करने लगे. ये हंगामा अफरातफरी में बदल गया. बताया जा रहा है कि रेल कर्मियों ने मंच की ओर गमले फेंके. रेल कर्मियों ने रेल मंत्रालय और भारत सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. बढ़ते बवाल को देख सुरक्षा कर्मियों के हाथ-पांव फूल गए.

यूपी के डिप्‍टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को मिली प्रयागराज अदालत से जमानत, यह था आरोप

फ्लीट के आगे कूदे रेल कर्मी
रेल कर्मी इतने आक्रोशित थे कि वह रेल मंत्री की फ्लीट के आगे कूद गए. उन्हें वहां से हटाया गया. सुरक्षाकर्मियों ने बमुश्किल रेल मंत्री को मौके से सुरक्षित निकाला. यहां से सीधे उन्हें अमौसी हवाई अड्डे पहुंचाया गया, जहां से वह दिल्ली रवाना हो गए. भारी पुलिस बल होने के बाद भी सुरक्षा में यह चूक हुई. आरपीएफ और यूपी पुलिस ने बड़ी मुश्किल से रेल मंत्री की फ्लीट निकाली. अपनी मांगों की सुनवाई न होने से रेलकर्मी नाराज थे. रेल कर्मी पुरानी पेंशन योजना और अप्रेंटिस भर्ती की मांग  कर रहे हैं.