लखनऊ: समाजवादी पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक लखनऊ में हुई. इस दौरान 2019 लोकसभा चुनाव के लिए किससे-कितना गठबंधन होगा, ये तय करने के लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को अधिकृत कर दिया गया है. गठबंधन को लेकर सपा ने अपने पत्ते नहीं खोले हैं. बसपा या कांग्रेस से गठबंधन की शक्ल क्या होगी, इसे लेकर सपा महासचिव रामगोपाल यादव ने कुछ भी बताने से इनकार कर दिया. वहीं, उन्होंने कहा कि सबसे महत्वपूर्ण ये है कि सपा 2019 लोकसभा चुनाव बैलट पेपर से चाहती है, इसके लिए वह चुनाव आयोग के समक्ष आंदोलन करेगी. रामगोपाल ने मांग के लिए ‘सत्याग्रह’ शब्द का इस्तेमाल किया. Also Read - यूपी: लखनऊ में राजनाथ सिंह की गुमशुदी के पोस्टर लगाए, सपा के 2 कार्यकर्ता अरेस्ट

Also Read - यूपी: क्या फिर से अखिलेश के साथ आएंगे शिवपाल सिंह यादव, सपा के वरिष्ठ नेता ने दिया ये बड़ा संकेत

गठबंधन का फैसला करेंगे अखिलेश Also Read - मजदूरों की मदद करने निकला अखिलेश का परिवार, पत्नी डिंपल और बेटी टीना बाँट रही हैं राशन

बता दें कि आज सपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक थी. इस दौरान सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, सपा महासचिव रामगोपाल यादव, जाया बच्चन, किरणमय नंदा मौजूद रहे. सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव, शिवपाल सिंह यादव व आजम खान भी बैठक में नहीं पहुंचे. बैठक के बाद अखिलेश की बजाय रामगोपाल यादव पत्रकारों से बात करने पहुंचे. इस दौरान उन्होंने कहा कि गठबंधन को लेकर निर्णय अखिलेश यादव को करना है. वह ही अंतिम फैसला लेंगे. पार्टी ने उन्हें अधिकृत किया है.

सपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक शुरू, अखिलेश, रामगोपाल के साथ जया बच्चन भी मौजूद

EVM से चुनाव नहीं चाहती सपा

इसके साथ ही उन्होंने कहा, ‘कार्यकारिणी का मानना है कि लोकसभा चुनाव ईवीएम की बजाय मतपत्र (बैलट पेपर) से होना चाहिए.’ यह पूछे जाने पर कि अगर चुनाव आयोग ने पार्टी की ईवीएम की जगह मतपत्र से चुनाव कराने की मांग नहीं मानी तो तब वह क्या करेंगे, इस पर उन्होंने जवाब दिया है कि ‘उनके दरवाजे पर बैठ जायेंगे, और क्या गोली चलाने लगेंगे, गांधी जी के देश में सत्याग्रह करेंगे और क्या करेंगे.’ बता दें कि सपा लगातार मांग करती आ रही है कि चुनाव ईवीएम की बजाय बैलट पेपर से कराए जाएं.

बैठक में हुई चर्चा को बताने से इनकार

राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में राजनीतिक माहौल पर क्या चर्चा हुई, के सवाल पर उन्होंने कहा, ‘मैं आपको निर्णय के बारे में बता रहा हूं, न कि बैठक में हुई चर्चा के बारे में.’ बैठक में, मुलायम, शिवपाल व आजम खान के शामिल न होने के बारे में उन्होंने कहा कि ‘क्या यह जरूरी है कि सभी लोग बैठक में शामिल हों. 90 प्रतिशत सदस्य मौजूद थे. पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव भी मौजूद थे.’