लखनऊ: सुप्रीम कोर्ट द्वारा समायोजन रद्द किए जाने और सरकार से स्थाई नौकरी की मांग को लेकर शिक्षामित्रों ने आज अपने बाल मुंडवाकर प्रदर्शन किया. पुरुष शिक्षामित्रों के साथ ही कई महिलाओं ने भी अपने सिर के बाल मुंडवा दिए. शिक्षामित्रों की मांग है कि उन्हें स्थाई नौकरी देकर पैर टीचर बनाया जाए. इसके साथ ही टीईटी ऊत्तीर्ण शिक्षामित्रों को बिना परीक्षा के ही नियुक्ति दी जाए. Also Read - Viral Post: पुलिस नहीं ढूंढ़ पा रही लापता भाई, बहन ने सोशल मीडिया पर लोगों से मांगी मदद

Also Read - First Love Jihad Law Case: यूपी में 'लव जिहाद' कानून के तहत पहला मामला दर्ज, हिंदू लड़की का धर्म बदलवाना चाहता था उवैश अहमद

शिक्षामित्रों का समायोजन रद्द किए जाने के फैसले पर क्या है योगी सरकार का रुख, जानें पांच बड़ी बातें… Also Read - सरकार द्वारा बनाए जा रहे धर्मांतरण कानून का पूरी तरह विरोध करेगी सपा: अखिलेश यादव

अपनी मांगों को लेकर पिछले काफी समय से आंदोलनरत शिक्षामित्र आज राजधानी लखनऊ के ईको गार्डन पार्क पहुंचे. यहां पूरे प्रदेश में हजारों की संख्या में शिक्षा मित्र एकत्रित हुए. शिक्षामित्रों का आरोप है कि केंद्र व प्रदेश सरकार उनकी अनदेखी कर रही है. और भी कई आरोप लगाते हुए शिक्षा मित्रों ने बड़ी संख्या में सिर मुंडवाए. कई महिलाओं ने भी सिर के बाल साफ करा दिए.

आक्रोशित ग्रामीण डाक सेवकों ने अर्धनग्न होकर किया प्रदर्शन, पीएम मोदी से जताई नाराजगी

बता दें कि 25 जुलाई 2017 को सुप्रीम कोर्ट ने शिक्षामित्रों का समायोजन रद्द किया था. इसके बाद शिक्षामित्रों ने 13 जून को सीएम योगी से मुलाकात की थी. शिक्षामित्रों ने कहा कि उन्हें अनुमान था कि उनकी समस्याएं सुलझ जाएंगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. शिक्षा मित्रों ने कहा कि आने वाले दिनों में उनका आंदोलन और तेज होगा. एक महीने से अधिक समय से लगातार आंदोलनरत हैं. लखनऊ में कई बार प्रदर्शन किया जा चुका है.