बलिया: अपने बयानों से चर्चा में रहने वाले सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के राष्ट्रीय प्रमुख महासचिव अरविंद राजभर ने बीजेपी को मुश्किल में डालने वाला बयान दिया है. उन्होंने ऐलान किया कि वह बीजेपी के साथ गठबंधन जारी रखने पर विचार कर रही है. उन्होंने बताया कि इसके लिए चार जुलाई को लखनऊ में बैठक होगी. बैठक में भाजपा से गठबंधन को लेकर पुनर्विचार कर निर्णय लिया जाएगा. बता दें कि पार्टी अध्यक्ष व कैबिनेट मिनिस्टर ओम प्रकाश राजभर के रिश्ते बीजेपी से तल्ख़ नज़र आ रहे हैं. वह पार्टी और नेताओं के खिलाफ लगातार बयान देते हैं. Also Read - बिहार विधान परिषद जाएंगे पूर्व केंद्रीय मंत्री शाहनवाज हुसैन, बीजेपी ने दिया एमएलसी का टिकट

Also Read - TMC सांसद नुसरत जहां ने भाजपा को बताया दंगा कराने वाला, मुसलमानों को कहा- उल्टी गिनती शुरू..

राष्ट्रीय प्रमुख महासचिव अरविंद राजभर ने बताया कि इस महत्वपूर्ण बैठक में गठबंधन को लेकर चर्चा के साथ ही संगठन को मजबूत बनाने, आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर रणनीति, प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार के राज में सुभासपा कार्यकर्ताओं की उपेक्षा, युवाओं और महिलाओं के साथ हो रहे अत्याचार, आरक्षण विभाजन को लेकर पार्टी द्वारा किये जाने वाले आंदोलन समेत विभिन्न विषयों पर विचार-विमर्श करके निर्णय लिया जाएगा. Also Read - Army Day 2021: BJP ने सेना दिवस के अवसर पर साझा किया बेहतरीन वीडियो, दिखा जवानों का पराक्रम

कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर अब बोले- ‘नेताओं का बस चले तो वे देश को ही बेचकर भाग जाएं’

बैठक में दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष तथा प्रदेश के काबीना मंत्री ओम प्रकाश राजभर भी मौजूद रहेंगे. यह बैठक भाजपा की सहयोगी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के भाजपा से तल्ख होते रिश्तों के मध्य अहम मानी जा रही है. उल्लेखनीय है कि सुभासपा अध्यक्ष राजभर पिछड़ों के साथ अन्याय होने तथा अधिकारियों द्वारा पार्टी नेताओं की बात नहीं सुने जाने समेत कई आरोप लगाकर राज्य की योगी सरकार खासकर मुख्यमंत्री पर लगातार हमले कर रहे हैं.

राजभर पिछले दिनों अपने गांव में एक सड़क की मरम्मत ना होने को लेकर असहज हो गये थे. और उन्होंने समर्थकों सहित फावड़ा उठाकर स्वयं सड़क की मरम्मत की थी. सुभासपा ने पिछले साल विधानसभा चुनाव भाजपा के साथ मिलकर लड़ा था. प्रदेश की 403 सदस्यीय विधानसभा में उसके चार विधायक हैं.