लखनऊ: अनस-तन्वी पासपोर्ट मामले के चश्मदीद गवाह कुलदीप सिंह का अपहरण किए जाने का मामला सामने आया है. कुलदीप सिंह के अनुसार, उनका लखनऊ के जानकीपुरम से अपहरण कर लिया गया. इसके बाद अपहरंकर्ता उन्हें नेपाल की ओर ले जाने की बात कर रहे थे, लेकिन इससे पहले ही वह लखीमपुर में अपहरंकर्ताओं को चकमा देकर पुलिस के पास पहुंच गए. लखनऊ पुलिस द्वारा उन्हें वहां से लखनऊ लाया जा रहा है. Also Read - Domestic Airlines Rules and Regulations: विमान यात्राओं को लेकर राज्यों ने जारी किए कई नियम, पालन नहीं करने पर होगी दिक्कत

Also Read - उत्तर प्रदेश के प्रवासी कामगारों को राज्य वापस बुलाना चाहते हैं तो हमसे लेनी होगी इजाजत: आदित्यनाथ

स्कॉर्पियो से अपहरण कर ले गए तीन लोग Also Read - सीएम योगी आदित्यनाथ को बम से उड़ाने की धमकी देने वाले शख्स को पुलिस ने मुंबई से किया गिरफ्तार

बता दें कि तन्वी सेठ ने लखनऊ के पासपोर्ट सेवा केंद्र पर अधिकारी विकास मिश्र पर धर्म को लेकर टिप्पणी का आरोप लगाया था. इस मामले में कुलदीप सिंह ने खुद को चश्मदीद गवाह बताया था. बताया जा रहा है कि इस मामले को लेकर कुलदीप सिंह मामले को लेकर शनिवार को ही प्रेस कांफ्रेस करने वाले थे. कुलदीप के अनुसार वह जानकीपुरम में स्कूटी से जा रहे थे, इसी दौरान एक स्कार्पियों ने ओवरटेक कर उनका अपहरण कर लिया.

हिन्दू-मुस्लिम दंपति से बदसलूकी करने वाले पासपोर्ट अधिकारी का तबादला, विदेश मंत्रालय ने तलब की रिपोर्ट

लखीमपुर में चकमा देकर छूटे

कुलदीप के अनुसार, गाड़ी में तीन लोग सवार थे. गाड़ी में सवार लोग उसे नेपाल की ओर ले जाने की बात कर रहे थे. कुलदीप के अनुसार लखीमपुर में वह चकमा देकर भाग निकला. वह पुलिस के पास पहुंचा और पूरे मामले की जानकारी दी. लखीमपुर पुलिस ने लखनऊ पुलिस से संपर्क किया. लखनऊ पुलिस के अनुसार कुलदीप को लखीमपुर से लाया जा रहा है.

वर्तमान पता गलत देने के चलते जब्त हो सकता है तन्वी सेठ का पासपोर्ट

पासपोर्ट अधिकारी ने धर्म परिवर्तन के लिए कहा : तन्वी सेठ

तन्वी सेठ और उनके पति अनस सिद्दीकी ने पासपोर्ट अधिकारी विकास मिश्रा पर आरोप लगाया था कि मुस्लिम से शादी करने और फिर धर्म परिवर्तन करने की बात कहकर उन्होंने उन दोनों को अपमानित किया. दोनों ने सोशल मीडिया पर मामले को उठाया गया. साथ ही विदेश मंत्रालय को भी कई ट्वीट किए. इसके बाद बदसलूकी के आरोप पर विकास मिश्रा से स्पष्टीकरण मांगते हुए तत्काल प्रभाव से उनका तबादला गोरखपुर कर दिया गया. तन्वी और उनके पति अनस सिद्दीकी का पासपोर्ट एक घंटे के भीतर जारी कर दिया गया. फिलहाल मामले में एलआईयू द्वारा जाँच की जा रही है. तन्वी ने अलग-अलग पते दिए थे. इसकी जांच चल रही है. अगर पता गलत निकलता है तो उनका पासपोर्ट जब्त किया जा सकता है.

तन्वी पासपोर्ट मामला: पत्रकारों और लोगों की भीड़ से पासपोर्ट केंद्र पर अव्यवस्था, सुरक्षा बढ़ी

तन्वी के निकाहनामे पर उनका नाम सादिया दर्ज

वहीं विकास मिश्रा ने भी खुद पर लगे आरोपों को लेकर मीडिया के समक्ष अपना पक्ष रखा है उन्होंने कहा कि उन्होंने जाति और धर्म के नाम पर कोई टिप्पणी नहीं की थी, विकास कहते हैं कि उन्होंने खुद इंटरकास्ट मैरिज की है, वो जाति,धर्म में भेदभाव नहीं करते. उन्होंने बताया कि तन्वी के निकाहनामे में उनका नाम सादिया दर्ज था, जबकि दूसरे कागजात में नाम तन्वी सेठ लिखा हुआ था. ऐसे में उन्होंने तन्वी से कहा कि एक प्रार्थना पत्र लिखकर दें, ताकि नाम इंडोर्स किया जा सके.