लखनऊ: उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने जाली नोट छापने वाले गिरोह के दो सदस्यों को गिरफ्तार कर उनसे हजारों रूपए के नकली नोट और स्कैनर तथा प्रिन्टर बरामद किया. यूपी में इस तरह की ये पहली घटना नहीं है. कुछ समय पहले भी जालसाजों को अरेस्ट किया गया था.Also Read - सुना है कि बीजेपी अपने 150 MLA के टिकट काटने जा रही... हमने 300 सीटों को पार कर लिया: अखिलेश यादव

एसटीएफ सूत्रों ने आज यहां बताया कि शनिवार को सूचना मिलने पर बल की एक टीम ने चिनहट थाना क्षेत्र स्थित देवा मार्ग पर राय इन्क्लेव गेट के पास देशराज यादव तथा रामरतन शर्मा नामक व्यक्तियों को पकड़कर उनके कब्जे से 8700 रुपए की जाली करेंसी नोट, 336 अर्द्धनिर्मित नोट, तीन मोबाइल फोन, एक प्रिंटर तथा स्कैनर इत्यादि बरामद किए हैं. Also Read - बिहार- यूपी से गए थे कश्‍मीर परिवार को गरीबी से निकालने, आतंकियों ने छीन लीं सांसें, घरों में पसरा मातम

गिरफ्तार अभियुक्त देशराज ने पूछताछ में एसटीएफ को बताया कि वह इससे पहले कार्ड छापने वाले प्रेस में कार्ड की डिजाइनिंग का काम करता था. इसी दौरान उसने जाली नोट तैयार कर उसे छापने का तरीका पता चला और वह एक वर्ष से इस प्रकार के ऐसे नोट छाप कर बाजारों में चला रहा है. वह अब तक लगभग नौ लाख रूपये के जाली नोट छाप कर प्रदेश के विभिन्न जिलों में खपा चुका है. उसके इस काम में बाराबंकी के निवासी उदय शर्मा और दिनेश शर्मा भी शामिल थे. Also Read - UP: PM मोदी 25 अक्टूबर को सिद्धार्थनगर से 7 मेडिकल कॉलेजों का उद्घाटन करेंगे, CM योगी ने दी ये जानकारी