लखनऊ: उत्तर प्रदेश के पूर्व खनन एवं परिवहन मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति के खिलाफ आय के ज्ञात स्रोतों से अधिक सम्पत्ति के मामले में सतर्कता जांच शुरू हो गई है. गृह विभाग के आधिकारिक सूत्रों ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि लोकायुक्त न्यायमूर्ति संजय मिश्र की इस सिलसिले में जांच रिपोर्ट और सिफारिश के आधार पर शासन ने पिछली जून में मामले की सतर्कता जांच के आदेश दिए थे. यह तफ्तीश अब शुरू हो चुकी है. आरोप है कि उन्होंने 900 करोड़ रुपए की संपत्ति जुटाई, जो आय से कहीं अधिक है. Also Read - आम आदमी पार्टी के नेता और सांसद संजय सिंह रविवार को हजरतगंज थाने में होंगे पेश, जानिए क्या है मामला

Also Read - UP: स्‍टोन व्यवसायी के मर्डर से जुड़े 5 ऑडियो लीक, IPS, IAS और नेताओं के Nexus का खुलासा

दोबारा मंत्री बनने पर गायत्री प्रजापति ने अखिलेश यादव के तीन बार छुए पैर Also Read - School Reopening: क्‍या यूपी में 21 सितंबर से नहीं खुलेंगे स्कूल?, डिप्‍टी सीएम ने दिया बड़ा बयान

गायत्री प्रजापति पहले से महिला से रेप के आरोप में जेल में बंद हैं. अब उनकी मुश्किलें और बढ़ सकती हैं. फैजाबाद के रहने वाले डॉक्टर रजनीश सिंह ने दिसम्बर 2016 में लोकायुक्त के यहां तत्कालीन परिवहन मंत्री गायत्री प्रजापति के खिलाफ शिकायत करके आरोप लगाया था कि उन्होंने मंत्री पद का दुरुपयोग करके अपनी पत्नी, बेटों, भाइयों तथा कई अन्य लोगों के नाम पर करीब 900 करोड़ रुपये की सम्पत्ति जमा की है.

गैंगरेप मामला: गायत्री प्रजापति के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में यूपी सरकार ने कहा- पहली नजर में बनता है मामला

सूत्रों के मुताबिक लोकायुक्त ने इसकी जांच करके पिछली मई में ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पास अपना प्रतिवेदन भेजा था. रजनीश का कहना है कि सतर्कता विभाग की एक टीम ने कल उनसे मुलाकात करके आरोपों से जुड़े कागजात उपलब्ध कराने को कहा था. प्रजापति इस समय बलात्कार के आरोप में लखनऊ जिला जेल में बंद हैं.