प्रयागराज: कुंभ मेला 2019 में पहली बार भाग लेने के बाद, जूना अखाड़े के हिस्से के रूप में सम्मिलित किन्नर अखाड़ा इस साल आगामी माघ मेला 2020 में पहली बार अपना शिविर लगाया जाएगा. किन्नर अखाड़ा ट्रांसजेंडरों की एक धार्मिक मंडली है. उन्होंने इस साल की शुरुआत में कुंभ मेला में भी भव्य तरीके से ‘देवत्य यात्रा’ के जरिए अपनी उपस्थिति दर्ज कराई थी.Also Read - मौनी अमावस्या पर एक करोड़ से अधिक लोगों ने गंगा में लगाई डुबकी, हेलीकाप्टर से की गई पुष्प वर्षा

किन्नर अखाड़ा को सेक्टर पांच में शिविर की अनुमति दी गई है. अखाड़ा के प्रमुख महामंडलेश्वर लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी ने कहा कि अखाड़ा के सदस्य आधिकारिक रूप से मेला शुरू होने के दस दिन पहले यानि 1 जनवरी से शिविर में रहना शुरू कर देंगे. यह अखाड़ा 9 फरवरी तक रहेगा. इस बार माघ मेला कई मामलों में महत्वपूर्ण है, क्योंकि इस बार संत और ऋषि न सिर्फ हरिद्वार में 2021 में होने वाले कुंभ मेले की तैयारियों पर चर्चा करेंगे, बल्कि प्रस्तावित राम मंदिर और उसके निर्माण की संभावित तारीख पर भी चर्चा करेंगे. Also Read - Magh Snan 2020: पद्म पुराण में ये है माघ स्‍नान की कथा, दान-उपवास का महत्‍व

वहीं अखाड़ा सूत्रों का कहना है कि वे सदस्यों के सुरक्षा के लिए अपने शिविर में सीसीटीवी का एक नेटवर्क स्थापित करेंगे. यह कदम अखाड़ा शिविर में बड़ी संख्या में आने वाले आगंतुकों को ध्यान में रखते हुए उठाया जाएगा. अखाड़ा निजी सुरक्षा गार्ड भी तैनात करेगा जो मेला प्रशासन द्वारा तैनात पुलिस कर्मियों के अतिरिक्त होगा. Also Read - Magh Mela 2020: माघ स्‍नान का महत्‍व, कौन से देवता संगम में करते हैं स्‍नान?