मथुरा: मथुरा की एक अदालत ने यहां के निकट पवित्र गोवर्धन पर्वत पर निर्मित सभी नए मंदिरों को स्थानांतरित किए जाने के आदेश दिए है. गोवर्धन पर्वत के आस-पास परिक्रमा मार्ग पर अवैध निर्माण को भी ढहाया जाएगा. अदालत ने ये आदेश पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए दिया है. Also Read - Farmers Protest को लेकर BJP MP हेमा मालिनी बोलीं- किसानों को भ्रमित कर रहा विपक्ष

Also Read - यूपी में RSS के कार्यालय पर हमला, तोड़फोड़ की गई, तीन गिरफ्तार, दो पुलिसकर्मी सस्पेंड

यूपी में विकास के लिए मंदिर और मस्जिद को हटाकर पेश की समझदारी की मिसाल Also Read - Nandababa Temple Namaz Case: मंदिर परिसर में नमाज पढ़ने वाले दोनों आरोपियों की जमानत याचिकाएं कोर्ट ने की खारिज

एक वकील ने बुधवार को बताया कि राष्ट्रीय हरित अधिकरण मामलों की सुनवाई कर रहे न्यायमूर्ति रघुवेंद्र राठौर ने कहा कि पहाड़ी पर पुराने मंदिरों को नहीं छेड़ा जाएगा. अदालत ने बाबा आनंद गोपाल दास और सत्यप्रकाश मंगल की एक याचिका पर सुनवाई करते हुए मंगलवार को यह आदेश पारित किया.

महाराष्ट्र में एक ऐसा मंदिर जिसे बनाया था पांडवों ने, सबकी मनोकामना पूरी करती हैं यह माता

वकील सार्थक चुतर्वेदी ने निर्णय के बारे में बताते हुए कहा कि नए मंदिरों के आसपास बनाए गए अतिथि गृहों और वाणिज्यिक आवासों को भी ढहाया जाएगा और देवी-देवताओं की प्रतिमाओं को सम्मानपूर्वक स्थानांतरित किया जाएगा. उन्होंने कहा कि गोवर्धन पर्वत के आस-पास परिक्रमा मार्ग पर अवैध निर्माण को भी ढहाया जाएगा. अदालत ने इस मामले की अगली सुनवाई की तिथि एक नवम्बर तय की है.