लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले में पुलिस ने 110 फर्जी शिक्षकों की भर्ती को अंजाम देने वाले बेसिक शिक्षा कार्यालय के एक कर्मचारी को गिरफ्तार कर मामले से जुड़ी सात फाइलें बरामद की हैं. उसे भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत गठित मेरठ के विशेष न्यायालय भेज दिया गया. Also Read - Good News For Home Gaurd: 25000 पीआरडी जवानों के लिए बड़ी खुशखबरी, अब पूरे साल मिलेगी ड्यूटी

Also Read - Banke Bihari Temple Reopen Today: आज से फिर भक्तों के लिए खुलेगा बांके बिहारी मंदिर, जानें से पहले देखें नए दिशा-निर्देश

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बबलू कुमार ने बताया कि बीते दिनों बेसिक शिक्षा विभाग में कुछ सहायक अध्यापकों को फर्जी कागजातों के आधार पर भर्ती किए जाने की शिकायत मिलने पर बेसिक शिक्षा अधिकारी चंद्रशेखर ने 110 शिक्षकों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कराया था. प्रारम्भिक जांच के दौरान ही पुलिस को पता चला कि उस विभाग में कार्यरत श्यामवीर ही मामले का सरगना है. उन्होंने बताया कि उस समय उसके कई अन्य साथी तो हाथ लग गए किंतु वह फर्जी भर्ती किए जाने से संबंधित कई फाइलें लेकर कार्यालय से फरार हो गया था. Also Read - पाकिस्तान में मचा सियासी घमासान- आमने सामने आई सेना और पुलिस, छुट्टी पर चले गए अधिकारी

मथुरा में फर्जी शिक्षक भर्ती का भंडाफोड़, चार लिपिक, तीन दलाल एवं नौ फर्जी शिक्षक गिरफ्तार

काफी समय से तलाश कर रही थी पुलिस

पुलिस कई माह से उसकी तलाश कर रही थी. रिफाइनरी सर्किल के पुलिस उपाधीक्षक राकेश कुमार उसके खिलाफ धोखाधड़ी एवं उससे जुड़े भादवि की धारा 420, 467, 468 व 471 तथा भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 8/9 के तहत दर्ज मामले की जांच कर रहे थे.