मथुरा: उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले की पोक्सो अदालत ने दो अलग-अलग मामलों में नाबालिग बच्ची के साथ दुष्कर्म के जुर्म में आरोपियों को कठोर कारावास का दंड दिया है साथ ही जुर्माना लगाते हुए पीडिता को आर्थिक मुआवजा दिए जाने का भी आदेश दिया है.

दो अलग मामलों की कड़ी कार्यवाही
अभियोजन पक्ष के सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता वीरेंद्र कुमार लवानिया के अनुसार एक मामला जहां थाना वृंदावन का है, वहीं दूसरा मामला राया थाना क्षेत्र का है. थाना वृंदावन के मामले में एक गांव की विधवा महिला ने साढ़े तीन वर्ष पूर्व एक मामला दर्ज कराया था कि उसके जेठ का लड़के रिंकू उसकी नौ वर्ष की बेटी साथ अक्सर उसके साथ अभद्र व्यवहार करता है. उसने 14 जनवरी की शाम सात बजे उसे जबरदस्ती घर में पकड़ लिया और उसके साथ दुष्कर्म किया. इस मामले में अदालत ने सात साल के कठोर कारावास एवं 25 हजार रुपए जुर्माना अदा करने की सजा सुनाई है.

आफत की बारिश: बदायूं में मकान ढहा, दो लोगों की दर्दनाक मौत, 9 घायल

सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता ने बताया कि राया थाना क्षेत्र वाला मामला भी 3 वर्ष पुराना है, जहां थाना क्षेत्रके  गांव में एक युवक विशम्भर ने पड़ोस में खेल रही 3 साल की एक बच्ची के साथ दुष्कर्म किया. इस मामले में अदालत ने आरोपी को दोषी करार देते हुए 20 साल के कठोर कारावास तथा 20 हजार रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई है.

kerala flood: सरकार की अदूरदर्शिता का नतीजा है बाढ़ त्रासदी: ओमन चांडी

निर्भया फण्डका भी राज्य सरकार करे प्रयोग: अदालत
न्यायाधीश के आदेश के अनुसार यह राशि पीड़िता को सौंपी जाएगी. अदालत ने पीड़िता की सहायता के लिए गठित किए ‘निर्भया फण्ड’ में से एक लाख रुपए की राशि प्रतिकर के रूप में प्रदान करने के लिए सरकार को भी निर्देशित किया है.

Video: लखनऊ पुलिस का अमानवीय चेहरा फिर उजागर: रिक्शाचालक को बीच सड़क लात-घूंसों से पीटा

अधिवक्ता ने बताया कि पोक्सो की विशेष अदालत में अपर जिला जज विवेकानंद शरण त्रिपाठी ने दोनों मामले की सुनवाई की. दोनों पक्षों की दलीलों तथा उपलब्ध साक्ष्य के आधार पर आरोपी को दोषी करार देते हुए दुष्कर्म एवं जान से मारने की धमकी देने तथा पोक्सो एक्ट की धारा 3/4 के तहत सजा सुनाई है और जुर्माने के आदेश दिए हैं.