गाजीपुर, 6 जून। उत्तर प्रदेश के मथुरा जले में गुरुवार को जवाहर बाग में हुई हिंसा के मुख्य आरोपी रामवृक्ष यादव की मौत की पुष्टि होने के बाद अब उसके गांववालों ने उसका शव लेने से इंकार कर दिया है। मथुरा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) ने इस आशय का पत्र गाजीपुर भेजा था। पुलिस के अनुसार, गाजीपुर के पुलिस अधीक्षक (एसपी) रामकिशोर को मथुरा एसएसपी की तरफ से पत्र भेजा गया था। पत्र में कहा गया है कि उसका शव लेने के लिए बाघपुर गांव से ग्रामीणों और परिजनों को यहां भेजा जाए।Also Read - संदिग्ध आतंकवादियों की गिरफ्तारी के बाद मथुरा में हाई अलर्ट, कृष्ण जन्मस्थान की सुरक्षा बढ़ी

Also Read - योगी सरकार ने मथुरा के मांस की बिक्री पर लगया प्रतिबंध, अब अदालत का दरवाजा खटखटाएंगे मुस्लिम विक्रेता

एसपी के निर्देश पर थाना प्रभारी (मरदह) दुर्गेश्वर मिश्रा ने सोमवार को गांव जाकर ग्रामीणों और ग्राम प्रधान से संपर्क किया। ग्रामीणों और प्रधान ने शव मथुरा से लाने से इनकार कर दिया। थाना प्रभारी ने बताया की उन्होंने ग्रामीणों से हुई बात की रिपोर्ट बनाकर एसपी को भेज दी है। यह भी पढ़े-हेमा का मथुरा झड़पों के लिए घेरने वालों पर पलटवार Also Read - योगी सरकार का बड़ा फैसला, मथुरा-वृदांवन का 10 वर्ग किमी क्षेत्र तीर्थ स्थल घोषित; शराब और मीट बेचने पर प्रतिबंध

गाजीपुर के अपर पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) अनिल सिसोदिया ने बताया की ग्रमीणों के शव लेने जाने से इनकार कर देने पर एसपी के माध्यम से रिपोर्ट मथुरा के एसएसपी को भेज दी गई है।

Mathura

उल्लेखनीय है कि मथुरा के जवाहरबाग में गुरुवार को हुई हिंसा में 24 लोगों की मौत हुई थी और कई अन्य घायल हुए थे। इसमें दो पुलिस अधिकारी भी शहीद हो गए।

इस कांड का मुख्य आरोपी रामवृक्ष यादव भी पुलिस के साथ हुई गोलीबारी में मारा गया था। डीजीपी ने रविवार को ट्वीट कर उसकी मौत की पुष्टि की थी। इसके बाद अब उसके गांव वालों ने उसका शव लेने से इनकार कर दिया है।