मऊ: स्वास्थ्य विभाग में कार्यरत एक ड्राइवर ने अपनी पत्नी और दो बच्चों की बेरहमी के हत्या कर दी. ड्राइवर ने पत्नी को गला दबाकर मारा. इसके बाद 7 साल व एक छह माह की बच्ची को बाल्टी में भरे पानी में सिर डुबोकर मार दिया. दिल दहलाने वाली कथित हत्याओं के बाद ड्राइवर ने खुद भी नदी में कूद कर आत्महत्या कर ली. ड्राइवर ने इतनी जघन्य वारदात को क्यों अंजाम दिया, अभी इसका पता नहीं चल पाया है. घटना को अंजाम देने के बाद खुद की जान लेने वाला सरकारी अस्पताल में एम्बुलेंस ड्राइवर था. Also Read - COVID-19: उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 116 हुई

पत्नी की हत्या बाद बच्चियों को भी नहीं छोड़ा
घटना उत्तर प्रदेश के मऊ जिले के उभांव थाना इलाके के बिल्थरा रोड नगर की है. सरकारी अस्पताल की एंबुलेंस चलाने वाले लक्ष्मी शंकर (35) ने कल मऊ जिले के लखनौर स्थित अपने गांव जाकर पत्नी डिम्पल की गला दबाकर हत्या कर दी. पत्नी को गला दबाकर मारने के बाद उसने अपने दोनों छोटी-छोटी बच्चियों को भी नहीं छोड़ा. सात साल की बेटी स्काई और छह महीने की सोना का सिर पानी से भरी बड़ी बाल्टी में डूबो कर मार दिया. Also Read - यूपी में लड़की हुई 'कोरोना', लड़का हुआ 'लॉकडाउन', दोनों के लिए चल रहा जश्न, जानें मामला

पति ने पत्नी को मारा तो गांव वालों ने पीट-पीट कर उसकी भी हत्या कर दी Also Read - निजामुद्दीन मरकज में शामिल हुए 157 लोगों की यूपी में तलाश, 8 इंडोनेशियाई बिजनौर की मस्जिद में मिले

हत्याओं के बाद नदी में लगाई छलांग
इसके बाद वह घर पर टाला लगाकर भाग गया. वह बाइक से उभांव थानाक्षेत्र के तुर्तीपार गांव पहुंचा और भागलपुर पुल से घाघरा नदी में छलांग लगाकर अपनी जान दे दी. घटना की सूचना मिलते ही वरिष्ठ पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे. उन्होंने बताया कि पुलिस मामले में आगे की कार्रवाई कर रही है. घटना को क्यों अंजाम दिया गया, इसका पता लगाया जा रहा है. घटना के सभी पहलुओं की जांच की जा रही है.

पत्नी से हुआ था विवाद, पीठ में रहता था दर्द
बताया जा रहा है कि घटना से पहले लक्ष्मी शंकर का पत्नी से किसी बात पर विवाद हुआ था. झगड़े के बाद उसने ये कदम उठाया. लक्ष्मी शंकर अपनी पीठ के दर्द से भी परेशान रहता था. इसको लेकर उसका सरकारी अस्पताल के अधिकारियों से विवाद भी हुआ था. दर्द के कारण उसे गाड़ी चलाने में परेशानी आती थी.