लखनऊ. देश में मुसलमानों के सबसे बड़े सामाजिक संगठन जमीअत उलमा-ए-हिंद के अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी ने आज भाजपा पर संविधान के साथ-साथ मुस्लिमों के शरई अधिकारों को भी नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि कांग्रेस मुस्लिम कौम की दुश्मन जरूर है, लेकिन उसने हमारे संविधान को क्षति नहीं पहुंचाई है. मौलाना मदनी ने जमीयत के जिला प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए मौजूदा सियासी हालात का जिक्र किया और कहा कि कांग्रेस ने मुसलमानों को बहुत नुकसान पहुंचाया है लेकिन उससे हमारे संविधान को कोई खतरा नहीं है. हमें फिरकापरस्त ताकतों से ज्यादा खतरा है. साम्प्रदायिक ताकतों के खिलाफ जो भी खड़ा होगा, हम उसके साथ हैं. Also Read - Dhule-Nandurbar Local Body by-elections Result: धुले-नंदुरबार निकाय उपचुनाव में भाजपा की शानदार जीत, महाविकास आघाडी की बुरी हार

उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा ने बेहिसाब नुकसान पहुंचाया है. उसने संविधान के साथ-साथ हमारे शरई अधिकारों पर भी चोट की है. कांग्रेस मुसलमानों की दुश्मन जरूर है लेकिन उसने हमारे संविधान को क्षति नहीं पहुंचायी है. मौलाना मदनी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में बना सपा-बसपा का गठबंधन ठीक है. धर्मनिरपेक्ष ताकतों का गठबंधन होना चाहिए. हम हमेशा से ऐसी ताकतों के हिमायती रहे हैं. उन्होंने आह्वान किया कि हिंदुस्तान के हर जिम्मेदार नागरिक का यह दायित्व है कि अगले लोकसभा चुनाव में ऐसी विघटनकारी ताकतों को सत्ता से बेदखल कर दे. Also Read - Gujarat के Ex-Minister की पोती के इंगेजमेंट में हुआ ऐसा डांस, Video वायरल होने पर अब मांग ली माफी

मौलाना मदनी ने मदरसों को आतंकवाद का अड्डा बताए जाने पर सख्त नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि मदारिस पर जो हमले हो रहे हैं वे नाकाबिल-ए-बर्दाश्त हैं. मुसलमानों को चाहिए कि वे अपने चरित्र से इस बात को साबित करें कि मदरसे अपने विद्यार्थियों को चरित्रवान बनाने के केन्द्र हैं. उन्होंने कहा कि मदरसों पर हमले रोकने का बेहतरीन इलाज यह है कि सरकारी अधिकारियों और समाज के अन्य वर्गों के लोगों को समय-समय पर मदरसों में बुलाया जाए, ताकि वे भी आकर देखें कि मदरसों में किस तरह की शिक्षा दी जा रही है. Also Read - Mumbai में UP के CM योगी से शिवसेना ने बॉलीवुड और Film City के प्‍लान को लेकर किया सवाल

मौलाना मदनी ने कहा कि मुल्क की आजादी से लेकर उसे सजाने संवारने तक में मदरसों का बहुत बड़ा योगदान है और उन्हें आतंकवाद का अड्डा बताया जाना उनकी तौहीन है. मालूम हो कि उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने हाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखकर कहा था कि देश के मदरसे आतंकवाद को बढ़ावा दे रहे हैं. लिहाजा प्राइमरी स्तर तक के सभी मदरसों को बंद कर दिया जाए.