लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की मुखिया और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर शोक जताते हुए कहा कि उन्होंने पार्टी हित से ऊपर उठकर समाज व देशहित में काम किया. उन्होंने यह भी कहा कि अगर वह स्वस्थ रहते तो भाजपा शायद कभी भी इतनी जनविरोधी, संकीर्ण, संकुचित, अहंकारी व विद्वेषपूर्ण नीति वाली पार्टी न होती जितनी आज हर तरफ से नजर आती है.

जनता के दिल पर राज करते थे अटल, 1991 से 2004 तक लगातार चुने गए लखनऊ से सांसद

सभी के लिए सम्मानीय थे अटल जी: मायावती 
मायावती ने बयान जारी कर पूर्व प्रधानमंत्री को श्रद्धांजलि अर्पित की. उन्होंने कहा कि अटल जी लंबे समय से बीमार चल रहे थे. देश के सांसद, केंद्रीय मंत्री और फिर प्रधानमंत्री के रूप में उनके अमूल्य योगदान को लोग लगातार याद करते रहे हैं और आगे भी याद करते रहेंगे. उन्होंने कहा कि कवि मन वाले अटल जी के सार्वजनिक जीवन में किए गए योगदान को हमेशा ही याद किया जाता रहेगा.

भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी की करिश्माई शख्सियत को दुनिया के राजनीतिज्ञों ने किया सलाम

उन्होंने कहा कि वह देश के एक ऐसे नेता थे, जो भारतीय जनसंघ व बाद में इसके नए अवतार भाजपा में रहने के बावजूद व्यापक स्तर पर सम्मान की दृष्टि से देखे गए. उनके कार्यकाल खासकर पड़ोसी देश पाकिस्तान व कश्मीर संबंधी नीतियों को लोगों ने लगातार याद किया.

भाजपा प्रदेश अध्य़क्ष ने अटल के निधन पर जताया शोक
भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की उत्तार प्रदेश इकाई के प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय एवं प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए कहा कि उनका जाना पूरे देश के लिए एक अपूरणीय क्षति है.

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को खोकर गमगीन है नवाबों का शहर लखनऊ

पांडेय एवं प्रदेश महामंत्री (संगठन) सुनील बंसल ने संयुक्त रूप से एक बयान जारी कर पूर्व प्रधानमंत्री के निधन पर दुख व्यक्त किया है. उन्होंने कहा कि अटल जी ने भारत को एक नई ऊंचाइयों पर पहुंचाने में अपनी अभूतपूर्व भूमिका का निर्वाहन करते हुए विश्व में भारत का मान बढ़ाया. अटल जी के निधन से हुई रिक्तता अपूरणीय है.