लखनऊ: उत्‍तर प्रदेश के मेरठ जिले के दौराला पुलिस थाने में भाजपा की एमएलसी डॉ. सरोजनी अग्रवाल के पति एवं उनकी बेटी समेत आठ लोगों पर समाजवादी आवास योजना के तहत फ्लैट दिलाने के नाम पर धोखाधड़ी करने और लाखों रुपये हड़पने का मामला दर्ज किया गया है.Also Read - Omicron वेरिएंट के बढ़ते मामलों के बीच उत्तर प्रदेश के इस शहर में धारा 144 लागू, जानें क्या-क्या रहेगी पाबंदी

Also Read - UP: 17 छात्राओं से रेप की कोशिश? पुलिस ने मामले में दिया ये बड़ा अपडेट

दौराला थाने के एसएसआई धारा सिंह ने सोमवार को बताया कि अदालत के आदेश पर एमएलसी सरोजनी अग्रवाल के पति डॉ. ओमप्रकाश अग्रवाल, बेटी डॉ. नीमा अग्रवाल, मेरठ के रहने वाले सिल्वर सिटी कंपनी के डायरेक्टर रवि रस्तोगी, शास्त्री नगर निवासी अनुराग गर्ग, आलोक रस्तोगी, पूनम प्रताप, अखिलेश कुमार एवं मनमोहन के विरुद्ध आईपीसी की धारा 420, 467, 468, 471, 120 बी, 323, 506 के तहत मामला दर्ज किया गया है. उन्होंने बताया कि मामले में जांच जारी है. पुलिस के अनुसार करीब चार साल पहले तत्कालीन सपा सरकार में दौराला-लावड़ मार्ग स्थित कलर सिटी कंपनी ने समाजवादी आवासीय योजना के तहत फ्लैट बनाना शुरू किया था. इसका शुभारंभ सपा सांसद तेज प्रताप सिंह ने किया था. Also Read - Bihar News: बिहार में पीएम मोदी-अमित शाह-सोनिया गांधी-प्रियंका चोपड़ा सबको लगा दिया कोरोना का टीका!

अयोध्या-मथुरा को तीर्थ स्थल घोषित करेगी योगी सरकार, लगाएगी मांस-मदिरा पर प्रतिबंध

सस्ती दरों पर फ्लैट देने का किया था वादा

इस संबंध में पल्लवपुरम निवासी अमीना सहाय एवं नेहा भारद्वाज, जेवरी निवासी नरेंद्र, कामरानपुर की महरु जिया, बेगमब्रिज के दिनेशलाल एवं वसीम, सिविल लाइन मेरठ निवासी हसन काजिम, गंगानगर निवासी हरेंद्र, मवाना निवासी शबाना ने अदालत में मुकदमा दायर किया था. आरोप है कि योजना के तहत उन्हें सस्ती दरों पर फ्लैट देने का वादा किया गया और बुकिंग के नाम पर लाखों रुपये भी लिये गये, लेकिन चार साल बीत जाने के बाद भी उन्हें ना तो रुपये मिले और ना ही फ्लैट.

हर मोर्चे पर विफल रही भाजपा, पिछले 4 साल में 50 हजार से ज्यादा किसानों ने दी जान: अखिलेश यादव

आवासीय योजना चलाने वालों का ताल्लुक भाजपा एमएलसी डॉ. सरोजनी अग्रवाल से

उनका आरोप है कि आवासीय योजना चलाने वालों का ताल्लुक भाजपा एमएलसी डॉ. सरोजनी अग्रवाल से है. उन्होंने थानेदार से लेकर एसएसपी तक से शिकायत की. लेकिन जब कार्रवाई नहीं हुई तो उन्होंने अदालत का दरवाजा खटखटाया. अदालत के आदेश पर दौराला थाने में मामला दर्ज हुआ है. इस संबंध में एमएलसी डॉ. सरोजनी अग्रवाल के प्रतिनिधि डॉ. राजेश कुमार ने बताया कि डॉ. सरोजनी अग्रवाल और उनके परिवार का इस मामले से कोई लेना-देना नहीं है और यह राजनीतिक साजिश है. (इनपुट एजेंसी)