नई दिल्लीः देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) के प्रकोप के चलते 24 मार्च से लॉकडाउन जारी है. ऐसे में सबसे ज्यादा परेशानी उठानी पड़ रही है, अपने घर-परिवार और गांव से दूर रहकर कमाई कर रहे प्रवासी मजदूरों को. इस बीच उत्तर प्रदेश के गोंडा (Uttar Pradesh Gonda) जिले से एक ऐसी खबर आई है, जो मजदूरों (Migrant Work) की सुरक्षा पर सवाल उठा रही है. दरअसल, उत्तर प्रदेश के गोंडा जिले में पूर्व माध्यमिक स्कूल इमलिया में बनाए क्वारंटाइन सेंटर में क्वारंटाइन किए गए एक मजूदर की सांप के काटने से मौत हो गई, जिसके बाद पूरा प्रशासन सक्ते में है. Also Read - कोरोना वायरस वैक्सीन बनाने में मदद करेगी गुजरात कोविड म्यूटेशन अध्ययन, जानिए क्या है एक्सपर्ट की राय 

स्कूल में क्वारंटाइन किए गए अन्य मजदूरों का कहना है कि, मजदूर को सांप काटने की सूचना एंबुलेंस को दी गई थी, लेकिन इसके बाद भी एंबुलेंस नहीं पहुंची, जिसके बाद मजदूर ने दम तोड़ दिया. इसके बाद गुरुवार देर रात पहुंची पुलिस ने सभी को इस क्वारंटाइन सेंटर से हटा दिया. Also Read - थूक के इस्‍तेमाल पर रोक से बिगड़ेगा गेंद-बल्‍ले का संतुलन, अनिल कुंबले का सुझाव, पिच में हो बदलाव

हिंदुस्तान.कॉम की खबर के मुताबिक मृतक महेंद्र कुमार पुत्र रामकिशोर इमलिया निवासी को एक जहरीले सांप ने काट लिया जिसके बाद वहां रह रहे अन्य लोगों ने एंबुलेंस को बार-बार फोन किया, लेकिन एंबुलेंस नहीं पहुंची. Also Read - Pakistan Coronavirus Update: 24 घंटे में सबसे ज्यादा मामले आए सामने, संक्रमितों की संख्या 80 हजार के पार

एंबुलेंस के नहीं पहुंचने पर लोग मजदूर को लेकर जिला अस्पताल पहुंचे, लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी. स्कूल में रह रहे अन्य लोगों ने मिलकर सांप को मार दिया और पुलिस को इसकी सूचना दी, जिसके बाद सभी को स्कूल से निकालकर उनके घर भेज दिया गया. मिली जानकारी के मुताबिक, युवक गुरुवार को ही हरियाणा के कैथल से पैदल चलकर अपने गांव पहुंचा था. ऐसे में उसे भी उसी स्कूल में क्वारंटाइन किया गया था, जहां पहले से ही अलग-अलग राज्यों से आए अन्य लोगों को रखा गया था.