मिर्जापुर: दो समुदायों के बीच मामूली विवाद को लेकर हुई झड़प के बाद पुलिस ने एक स्थानीय भाजपा नेता समेत 40 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर 14 नामजद लोगों को जेल भेज दिया. पुलिस के मुताबिक नगर के कटरा कोतवाली क्षेत्र में दो समुदायों के बीच विवाद के बाद फैली अशांति के बाद पुलिस ने 40 लोगों के शांतिभंग व विभिन्न धाराओं में मुक़दमा दर्ज किया. इस उपद्रव में सीओ सिटी समेत कुछ पुलिसकर्मी भी घायल हुए.

नोएडा में पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़, आधा दर्जन बदमाश गिरफ्तार

जिनमें से 14 लोगों को मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने बृहस्पतिवार को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया. साथ ही शहर में शांति और सौहार्द बनाए रखने के लिए शांति मार्च भी निकाला गया जिसमें शहर के संभ्रान्त व प्रभावशाली लोगों ने हिस्सा लिया.

बारावफात के जुलूस पर पथराव
गिरफ्तार लोगों में एक स्थानीय भाजपा नेता और उनके दो भाई भी शामिल हैं. कटरा कोतवाली इंस्पेक्टर भुवनेश्वर पाण्डेय ने बताया कि मंगलवार की शाम को दो समुदायों के बीच सजावट के लिए लगी लाइट टूटने के मामले को लेकर विवाद हो गया था जिसमें दो लोगों को मामूली चोटें आई थीं. अगले दिन बुधवार को एक समुदाय ने जब बारावफात पर जुलूस निकाला तो उस पर कथित रूप से पथराव किया गया. उपद्रव की ऐसी कई घटनाएं सामने आईं. जिसके बाद शांति भंग की आशंका व इलाके में तनाव के चलते पुलिस ने कार्रवाई की.

भाजपा सांसद के ‘तालिबानी’ बयान पर भड़के एएमयू के छात्र, राष्‍ट्रपति को लिखी चिट्ठी

सीओ सिटी समेत 3 पुलिसकर्मी जख्मी
इन घटनाओं में तीन पुलिस कर्मियों, क्षेत्राधिकारी शहर सहित कई अन्य लोगों को चोटें आईं. घटना के बाद पुलिस ने दोनों पक्षों की ओर से दर्ज कराई गई शिकायत के आधार पर 14 लोगों को गिरफ्तार किया और 26 अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की. अज्ञात लोगों की सीसीटीवी कैमरे और पुलिस के द्वारा कराई गई फोटोग्राफी के माध्यम से पहचान की जा रही है. मिर्जापुर की पुलिस अधीक्षक शालिनी ने बताया कि नगर में स्थिति सामान्य और नियंत्रण में है. कटरा कोतवाली में एक शांति कमेटी की बैठक का आयोजन किया गया जिसके उपरान्त शांति मार्च भी निकाला गया.