दिल्ली: बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) सुप्रीमो मायावती ने मंगलवार को प्रेस कांफ्रेंस करके तीन राज्यों के आगामी विधानसभा चुनावों और लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर पार्टी की स्थिति स्पष्ट की. उन्‍होंने कहा कि बसपा किसी भी गठबंधन का हिस्सा तब बनेंगी, जब उनकी पार्टी को सम्मानजक भागीदारी मिलेगी. उन्होंने कहा कि महागठबंधन को लेकर हाल के दिनों में चर्चाएं हो रही हैं, उन्हें साफ करने की जरूरत है. खासतौर पर जो कांग्रेसी नेता यहां-वहां बीएसपी के साथ गठबंधन को लेकर बयानबाजी कर रहे हैं, वह बंद करें. क्योंकि बीएसपी आगामी राजस्‍थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ तीनों ही राज्यों में अकेले दम पर सभी सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी में है. उसी स्थिति में किसी के साथ गठबंधन हो सकता है जब पार्टी को सम्मानजनक सीटें ऑफर की जाए.

 

दिल्‍ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मायावती ने कहा कि वह इन तीनों राज्यों में कांग्रेस के साथ किसी भी तरह के गठबंधन का हिस्सा तब बनेंगी, जब कांग्रेस उनकी पार्टी को सम्मानजनक भागीदारी सुनिश्चित करे. बता दें कि बीते चुनावों में राजस्‍थान, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में तीसरे नंबर की पार्टी रही थी. ऐसे में बसपा अपना जनाधार बढ़ाने के लिए अकेले चुनाव लड़ सकती है. 

यूपी में कांग्रेस के साथ गठबंधन के लिए सपा ने रखी ये शर्त, क्या मानेंगे राहुल गांधी?

मॉब लिंचिंग के लिए भाजपा को जिम्मेदार
बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने भाजपा को मॉब लिंचिंग के लिए जिम्मेदार ठहराया. उन्‍होंने कहा कि भाजपा ने देश भर में माहौल बिगाड़ दिया है. बीजेपी का चाल, चरित्र और चेहरा आम जनविरोधी और सामाजिक समरसता व भाईचारा बिगाड़ने वाला है. इस दौरान उन्‍होंने अलवर की घटना की निंदा करते हुए कहा कि राजस्‍थान की बीजेपी सरकार इस मामले में उचित कार्रवाई नहीं कर पाएगी. उन्‍होंने इस मामले में अदालत से हस्तक्षेप करने का अनुरोध किया.