नई दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस महीने कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र रायबरेली का दौरा कर सकते हैं. अगर ऐसा होता है तो यह प्रधानमंत्री बनने के बाद यह उनका पहला रायबरेली दौरा होगा. भाजपा सूत्रों का कहना है कि ये दौरा 15 दिसंबर के बाद हो सकता है. रायबरेली में पीएम मोदी संभवतः आधुनिक रेल कोच फैक्टरी और बन रहे एम्स का दौरा कर सकते हैं. इसके साथ ही वह एक रैली को भी संबोधित करेंगे. Also Read - PM मोदी ने सोशल वर्कर्स से कहा, Coronavirus पर गलत सूचना और अंधविश्वास को दूर करें

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक यूपी के मुख्य सचिव एके पांडे ने शनिवार को रायबरेली का दौरा कर पीएम की संभावित यात्रा से जुड़ी तैयारियों का जायजा लिया. राज्य के ग्रामीण विकास मंत्री महेंद्र सिंह भी रविवार को रायबरेली में ही थे. वे वहां जमीनी स्तर पर तैयारियों का जायजा लेने पहुंचे थे. वैसे अभी तक पीएम के दौरे की तारीख को अंतिम रूप नहीं दिया गया है. Also Read - Covid-19: कोरोनावायरस से लड़ने के लिए सांसद निधि से 35 सांसद देंगे एक-एक करोड़ रुपये

5 राज्यों के रिजल्ट से एक दिन पहले महागठबंधन पर चर्चा के लिए विपक्ष की बैठक आज Also Read - राहुल गांधी ने पीएम मोदी को लिखा पत्र, बोले- अचानक बंद होने से भय और भ्रम पैदा हो गया है

गौरतलब है कि भाजपा रायबरेली के साथ-साथ राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र अमेठी पर नजर रख रही है. अस्वस्थ रहने के कारण सोनिया गांधी अब अक्सर रायबरेली का दौरा नहीं कर पाती हैं. उन्होंने इस साल अप्रैल में और उससे पहले 2016 के मध्य में रायबरेली का दौरा किया था. उन्होंने 2017 के विधानसभा चुनाव में भी रायबरेली का दौरा नहीं किया था. हालांकि उनकी बेटी प्रियंका गांधी ने इस साल कहा था कि उनकी मां 2019 में भी रायबरेली से चुनाव लड़ेंगी. भाजपा नेताओं का मानना है कि मोदी के दौरे से 2019 के चुनाव में सोनिया के खिलाफ एक मजबूत उम्मीदवार को उतारने की रणनीति आगे बढ़ेगी. 2019 के चुनाव में कांग्रेस ने सोनिया के खिलाफ अनिल अग्रवाल को उम्मीदवार बनाया था. भाजपा का दावा है कि उनकी सरकार बनने के बाद ही रायबरेली में रेल कोच फैक्ट्री में कामकाज शुरू हो पाया. इसी तरह मुख्यमंत्री आदित्य योगी की सरकार की पहल के बाद एम्स में इस साल ओपीडी सेवा शुरू हो सकी.