मेरठ: उत्तर प्रदेश के मेरठ में मेरठ मेडिकल कॉलेज में जांच के लिए ले जाए जा रहे तीन मरीजों के सैंपल बंदरों ने छीन लिए. बाद में मरीजों के सैंपल दोबारा लिए गए. मंगलवार की इस घटना को लेकर शुरु में शहर में यह चर्चा थी कि बंदरों के एक समूह ने जो सैंपल लैब टेक्निशियन के हाथ से छीना, वह कोरोना की जांच के लिए था. इससे लोग इस बात से डरे हुए थे कि कहीं सैंपल से बंदर संक्रमित न हो जाएं और उनसे इलाके में संक्रमण न फैल जाए.Also Read - Coronavirus in India: पिछले 24 घंटों में COVID-19 के 2.35 लाख नए मामले, 3.35 लाख लोग हुए रिकवर

मेरठ मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल एसके गर्ग ने आज इस बात से इंकार किया है कि बंदरों द्वारा छीने गए सैंपल कोरोना मरीजों के थे. उन्होंने कहा कि बंदरों के एक समूह ने जो सैंपल लैब टेक्निशियन के हाथ से छीना, वे कोरोना की जांच के लिए नहीं थे. वे शुगर आदि सामान्य जांचों के सैंपल थे. Also Read - Haryana में कोरोना पाबंदियों में ढील, 50 फीसदी क्षमता के साथ खुलेंगे सिनेमाघर-मल्टीप्लेक्स; स्कूलों को लेकर यह हुआ फैसला

गर्ग ने कहा कि इस घटना से खतरे की कोई बात नही है. फिलहाल,संबंधित मरीजों के सैंपल दोबारा लेकर भेजे गए हैं. उल्लेखनीय है कि मंगलवार को बंदरों ने जांच के लिए मेरठ के एलएलआरएम लैब ले जा रहे कर्मचारियों से तीन मरीजों के सैंपल छीन लिए. गुरुवार को इसका एक वीडियो वायरल हुआ था. इस वीडियो में बंदर पेड़ पर बैठे हैं और सैंपल कलेक्शन किट चबा रहे हैं. Also Read - UP School News: योगी सरकार का आदेश- यूपी में स्कूल और सभी शिक्षण संस्थान 6 फरवरी तक रहेंगे बंद

(इनपुट भाषा)