लखनऊ: पिछले तीन दिनों से लगातार हो रही बारिश के चलते पूरे प्रदेश में जनजीवन अस्त -व्यस्त हो गया है. बारिश के निरंतर जारी कहर के चलते प्राप्त आंकडों के मुताबिक़  31 जिलों में अब तक 58 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है और 53 लोग जख्मी हुए हैं. सबसे ज्यादा 11 लोगों की मौत सहारनपुर में हुई है, वहीं आगरा में 6 लोगों की मौत और मेरठ तथा मैनपुरी में चार चार लोग अपनी जान गवा चुके हैं. ज्यादा ज्यादातर मौतें दीवार या घर गिरने से हुई हैं. Also Read - आफत की बारिश: बिहार-झारखंड में बिजली गिरने से 23 लोगों की मौत, असम में बाढ़ से छह और मरे

सहारनपुर गंगोह थाना क्षेत्र के मोहल्ला सराय में बीती रात भारी बारिश के चलते एक घर गिर गया जिसमें एक ही परिवार के 6 लोगों की मौत हो गई, जिसमें 4 बच्चे भी शामिल है. उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में 2 दिन की बारिश में एक सड़क धंस गई.

आफत की बारिश: सहारनपुर में मकान ढहा, एक ही परिवार के आधा दर्जन लोगों की दर्दनाक मौत

सरकार ने आर्थिक मदद की घोषणा की

मौसम का कोप झेल रहे लोगों के लिए प्रदेश की योगी सरकार ने आर्थिक मदद की घोषणा भी की है. मृतकों के परिजनों के लिए 4 लाख रु, घायलों के लिए 60 हजार रु और क्षतिग्रस्त मकानों के लिए ₹95 हजार रु की आर्थिक मदद देने की घोषणा की है. सरकार के अनुसार अधिकांश पीड़ितों को आर्थिक मदद दी जा चुकी है, बचे हुए लोगों को भी जल्द ही मदद पहुंचा दी जाएगी.

एनजीटी ने सरकार की लगाई फटकार: ‘ यह गंगा जल प्रदूषित है ‘ जारी करें वैधानिक चेतावनी

लगातार हो रही बारिश से संक्रामक बीमारियों का खतरा

ध्यान देने योग्य है कि पिछले कई दिनों से देश के कई हिस्सों में लगातार हो रही बारिश ने आम जनजीवन को अस्त-व्यस्त कर दिया है जिसके कारण लोगों का रोजमर्रा का जीवन प्रभावित हो रहा है. देश में जगह-जगह बाढ़ आने और बादल फटने की घटनाएँ हो रही हैं.

आफत की बारिश: दो दिन में 33 से अधिक लोगों की मौत, अखिलेश ने कहा, भ्रष्ट और दिखावटी है स्वच्छता अभियान

जगह-जगह जलभराव होने से संक्रामक बीमारियों का खतरा निरंतर बढ़ता जा रहा है. कई जगहों पर निरंतर बारिश होने के कारण जिला प्रशासन को स्कूलों की छुट्टियां करनी पड़ी हैं लेकिन सबसे ज्यादा खतरा इंसेफ्लाइटिस, डेगूं, मलेरिया आदि के फैलने का है.

UP: बारिश का कहर, प्रदेश भर में 24 घंटे के अंदर 20 से अधिक लोगों की मौत