कानपुर: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी 2019 का लोकसभा चुनाव कहीं से भी नहीं लड़ेंगे. पार्टी ने उन्हें टिकट देने से इनकार कर दिया है. कानपुर के लोगों को लिखे एक पत्र में जोशी ने कहा कि प्रिय कानपुर वासियों, भाजपा के महासचिव रामलाल ने मुझे आज अवगत कराया है कि मुझे कानपुर से या कहीं अन्य से आगामी संसदीय चुनाव नहीं लड़ना चाहिए.

जोशी दिवंगत प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी व लालकृष्ण आडवाणी समेत भाजपा के संस्थापक सदस्यों में एक हैं. भाजपा ने आडवाणी को भी टिकट देने से इनकार कर दिया है और उनकी गांधीनगर लोकसभा सीट से पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को मैदान में उतारा है. आडवाणी 1991 से गांधीनगर सीट का छह बार प्रतिनिधित्व कर चुके हैं. वाजपेयी ने भी 1996 में गांधीनगर सीट का प्रतिनिधित्व किया था. जोशी (85) ने अपनी वाराणसी सीट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए छोड़ दी थी. उन्होंने 2014 में कानपुर सीट से चुनाव लड़ा था और जीत हासिल की थी.

भोजपुरी सुपरस्टार दिनेश लाल यादव ‘निरहुआ’ ने थामा भगवा झंडा, इस सीट से लड़ सकते हैं चुनाव

भाजपा ने यूपी में 6 सांसदों के टिकट काटे
बता दें कि भारतीय जनता पार्टी ने मंगलवार को 39 प्रत्याशियों की सूची जारी की थी. इसमें वर्तमान 6 सांसदों के टिकट काटकर पार्टी ने योगी सरकार के दो मंत्रियों को लोकसभा प्रत्याशी बनाया है. वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी का कानपुर से टिकट काटकर प्रदेश सरकार के खादी मंत्री सत्यदेव पचौरी को दिया है. जबकि बाराबंकी से प्रियंका रावत का टिकट काटकर उपेंद्र रावत को दिया गया है. वहीं प्रयाग से श्यामाचरण के सपा से प्रत्याशी घोषित होने के बाद योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री रीता बहुगुणा जोशी को टिकट दिया गया है. बहराइच से ज्योतिबा फुले के कांग्रेस में चले जाने के बाद भाजपा ने वरिष्ठ नेता अक्षयवर गौड़ को प्रत्याशी बनाया है.

लोकसभा चुनाव 2019: बेगूसराय सीट पर क्‍या बिगड़ रहा गिरिराज सिंह का गणित, ऐसे छलका दर्द

आगरा से सांसद रहे रामशंकर कठेरिया को इटावा से बनाया प्रत्‍याशी
इटावा से अशोक दोहरे का टिकट काटकर आगरा से सांसद रहे रामशंकर कठेरिया को प्रत्याशी बनाया गया है. कुशीनगर से राजेश पांडे का टिकट काटकर विजय दुबे को प्रत्याशी बनाया गया है. बलिया से भरत सिंह का टिकट काटकर भदोही के सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त को टिकट दिया गया है. रामपुर से नैपाल सिंह का टिकट काटकर जया प्रदा को टिकट दिया गया है. इस बार केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी और उनके बेटे वरुण गांधी की सीटों की अदला बदली कर दी है. मेनका गांधी को सुल्तानपुर और वरुण गांधी को पीलीभीत से टिकट दिया है. वर्तमान में मेनका पीलीभीत और वरुण सुल्तानपुर से सांसद हैं.

Lok Sabha Election 2019: टिकट कटने से नाराज हैं BJP के ये प्रमुख नेता