मुजफ्फरनगर: यहां लॉकडाउन संबंधी नियमों का उल्लंघन कर एक घर के भीतर नमाज पढ़ने के लिए करीब 12 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने शनिवार को बताया कि भोराकाला पुलिस थाने के तहत सिसोली गांव के जिन निवासियों को गिरफ्तार किया गया है उनपर भारतीय दंड संहिता की संबंधित धाराओं और महामारी बीमारी कानून के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है. Also Read - Railway and Flights Rules and Regulations: 1 जून से बदलने वाले हैं रेलवे, बस और फ्लाइट्स के ये नियम, बरतनी होगी सावधानी

पुलिस के एक अधिकारी ने कहा, “यह समूह लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन कर घर के भीतर जुमे की नमाज पढ़ रहा था.” अधिकारियों ने मुजफ्फरनगर जिले में दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 144 लागू की गई जिसमें कोरोना वायरस के खिलाफ एहतियात के तौर पर चार से अधिक लोगों के एकत्र होने की मनाही है. Also Read - 5,000 के पार पहुंची कोविड-19 से मरने वालों की संख्या, कल से शुरू होगा लॉकडाउन से निकलने का पहला चरण; 13 बड़ी बातें

बता दें कि कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन है. इसके चलते भीड़ एकत्रित किये जाने की महानी है. रमज़ान माह चल रहा है. बीते दिन अलविदा जुमा था. ये नमाज़ सात लोगों से कम के बिना नहीं हो सकती है. लोगों ने घरों में ही नमाज़ पढ़ी. कई जगहों पर लोगों ने अपने पड़ोस के लोगों को घर में बुलाकर ही नमाज़ पढ़ी. ये पहला मौका है जब रमजान के दौरान मस्जिदों में ताले पड़े रहे. ईद के दिन भी ईदगाह में नमाज़ नहीं होगी. लोग अगर पढ़ना चाहें तो घर में पढ़ सकते हैं, वहीं कई का कहना है कि बिना लोगों के घरों में ईद की नमाज नहीं मानी जा सकती है. Also Read - लॉकडाउन नहीं बढ़ा; वर्क फ्रॉम होम रहेगा या नहीं, ऑफिस-स्कूल-कॉलेज खोलने के लिए क्या हैं नियम, 20 पॉइंट्स में जानें