मथुरा। 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के दिन यूपी के मथुरा में भाईचारे की अनोखी मिसाल देखने को मिली. जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के तंगधार में आतंकियों से लोहा लेते हुए सोमवार को शहीद हुए मथुरा के खुटिया नगला गांव के पुष्पेंद्र सिंह के अंतिम संस्कार के लिए जब राजस्व अधिकारी सड़क किनारे की ठीकठाक जमीन उपलब्ध कराने के लिए गांव का नक्शा लेकर विचार कर रहे थे तब उसी गांव के निवासी नज़ीम खान ने आगे बढ़कर इस कार्य के लिए अपनी भूमि उपलब्ध करा दी.Also Read - Jharkhand: कश्मीरी युवकों पर हमला, धार्मिक नारे दोहराने का दबाव बनाया, कई हिरासत में

Also Read - गलवान वैली में चीनी सेना से झड़प के नायक कर्नल बी संतोष बाबू मरणोपरांत महावीर चक्र से सम्मानित

सरकार की पहल का इंतजार नहीं Also Read - Gallantry Awards: भारतीय सेना के जांबाज अभिनंदन को 'वीर चक्र' मिला, पाकिस्तानी लड़ाकू विमान को मार गिराया था

इतना ही नहीं, जब उस क्षेत्र की पूर्व ब्लॉक प्रमुख हरनंदी देवी के पुत्र प्रीतम सिंह ने शहीद स्मारक निर्माण के लिए सरकार की बाट न जोहते हुए गांव वालों से निजी प्रयासों से कराने का प्रस्ताव दिया और खुद इस कार्य के लिए ढाई लाख रुपए की रकम देने का ऐलान किया तो नज़ीम खान ने भी 50 वर्ग गज जमीन दान देने की घोषणा कर दी. स्मारक के निर्माण के लिए शहीद पुष्पेंद्र सिंह के रिश्तेदार पदम सिंह ने भी एक लाख रुपया देने का वचन दिया है.

शहीद औरंगजेब के पिता ने कहा- बड़ा बेटा अभी फौज में है, हम सब कश्मीर के लिए कुर्बान हो जाएंगे

नज़ीम खान की इस पहल पर लोग देर रात अंत्येष्टि के बाद भी चर्चा करते देखे गए. उनका कहना था कि आजादी की 72वीं वर्षगांठ पर साम्प्रदायिक सौहार्द की इससे बेहतर मिसाल और क्या देखने को मिल सकती है. उन्होंने कहा कि यह एक सैनिक की शहादत का ही नहीं, देश में अमन-चैन बनाए रखने का प्रयास करने वाले हर देशवासी का सम्मान है.