नई दिल्ली. समाजवादी पार्टी के धाकड़ नेता रहे नरेश अग्रवाल अब भाजपाई हो गए हैं. अपने राजनीतिक करियर के दौरान उन्होंने यूपी की हर उस पार्टी में अपना भविष्य संवारा है, जिनसे उनके करियर को ऊंची उड़ान मिल सकी है. पिछले कुछ अर्से से राज्यसभा चुनावों को लेकर सपा में उनके होने-न होने को लेकर सियासी चर्चाएं चल रही थीं. अंततः आज भाजपा में शामिल होकर उन्होंने इन चर्चाओं पर विराम लगा दी. नरेश अग्रवाल सपा के फायरब्रांड नेता रहे हैं. उनके दिए कई बयान मीडिया में सुर्खियां बनती रही हैं. भाजपा हो या कांग्रेस, अग्रवाल के निशाने पर हर पार्टी रही है. खासकर पीएम नरेंद्र मोदी के ऊपर भी वे तीखे हमले करते रहे हैं. आज भाजपा की सदस्यता ग्रहण करते हुए भी उन्होंने सपा की सांसद व अभिनेत्री जया बच्चन को लेकर विवादित बयान दे डाला. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पार्टी में उनके आगमन का स्वागत किया, लेकिन जया बच्चन पर दिए गए उनके बयान से किनारा कर लिया. देखते हैं उनके कुछ बयानों की बानगी.

कुलभूषण जाधव पर – नरेश अग्रवाल के बयान ने देश में उस समय बवाल मचा दिया था, जब उन्होंने कहा था कि पाकिस्तान जाधव को आतंकी मानता है और उनसे वैसा ही व्यवहार उसने किया है. नरेश अग्रवाल ने ऐसे व्यवहार को बिल्कुल गलत नहीं माना और कहा कि हमें भी अपने देश की जेलों में बंद आतंकियों के साथ ऐसा ही व्यवहार करना चाहिए. इस बयान पर भाजपा समेत देशभर के कई संगठनों ने कड़ी प्रतिक्रिया दी थी.

जीएसटी पर – केंद्र की भाजपा सरकार ने जब पिछले साल जुलाई में देशभर में एकीकृत कर प्रणाली जीएसटी लागू की थी, उस समय सपा में रहे नरेश अग्रवाल ने इसका कड़ा विरोध किया था. पिछले साल जून में नरेश अग्रवाल ने कहा था कि जीएसटी प्रणाली से देश में ईस्ट इंडिया कंपनी के काल वाले हालात फिर से पैदा हो जाएंगे. सपा ने हालांकि पहले जीएसटी को समर्थन दे दिया था, बावजूद इसके अग्रवान ने कहा था कि उन्हें उम्मीद है सपा जीएसटी का समर्थन नहीं करेगी.

सेना के ऊपर – पिछले महीने जब कश्मीर के श्रीनगर के अस्पताल से कुछ आतंकियों ने अपने साथी को छुड़ा लिया था, उस समय भी नरेश अग्रवाल का बयान चर्चा में रहा था. उस समय संसद परिसर में अग्रवाल ने कहा था, ‘हम हर बार कहते हैं कि कहते हैं कि देश के सैनिकों का बलिदान बेकार नहीं जाएगा. रक्षा मंत्री की तरफ से भी बयान आता है कि कोई हमारी तरफ आंख नहीं उठा सकता है लेकिन आंख तो उठ रही है.’ नरेश अग्रवाल यहीं नहीं रुके, उन्होंने देशी सीमाओं की रखवाली कर रहे सैनिकों के साहस को ललकारते हुए कहा ‘अगर आतंकवादी ये हाल कर रहे हैं तो पाकिस्तानी फौज आएगी तो क्या हालत होगी. देश को कड़े निर्णय लेने चाहिए.’

भारतीय जनता पार्टी पर – बीजेपी की सोच इतनी संकीर्ण क्‍यों है? यह किसी के निजी जीवन में दखल है. अब मान लीजिए किसी की उस दिन सुहागरात होती, तो ये कहते ये सुहाग-रात क्‍यों मना रहा है? भारतीय जनता पार्टी को लेकर नरेश अग्रवाल काफी हमलावर रहे हैं. राज्यसभा में या सदन के बाहर भी वे भाजपा और पीएम मोदी के खिलाफ बयान देते रहे हैं.

हिन्दू देवी-देवताओं पर – नरेश अग्रवाल का हिन्दू देवी-देवताओं के ऊपर संसद में दिया गया बयान भी काफी विवादित रहा है. उन्होंने शराब के साथ हिन्दू देवताओं का नाम जोड़ते हुए सदन में बयान दिया था, जिसका भाजपा ने कड़ा विरोध किया था. इसी विरोध के बाद अग्रवाल के उस विवादित बयान को संसद की कार्यवाही से हटा दिया गया.