लखनऊ: उत्तर प्रदेश़ सरकार की ओर से 25 फरवरी को राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस पर 25 जिलों में बच्चों को कृमि संक्रमण से बचाव की दवा दी जायेगी.
स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा चयनित 25 जनपदों में आगरा, अलीगढ़, बागपत, बिजनौर, बदायूं, बुलन्दशहर, एटा, फिरोजाबाद, गौतमबुद्ध नगर, गाजियाबाद, हापुड़, हाथरस, जेपी नगर, झाँसी, काशीराम नगर, ललितपुर, मैनपुरी, मथुरा, मेरठ, मुरादाबाद, मुज़फ्फरनगर, रामपुर, सहारनपुर, संभल एवं शामली शामिल हैं.

Healthy बच्‍चों के पेट में पाए जाने वाले बैक्‍टीरिया फूड-एलर्जी से करते हैं बचाव, रिसर्च में दावा

राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस कार्यक्रम के प्रदेश नोडल प्रमुख तथा मातृ-शिशु कल्याण विभाग के निदेशक डा. सुरेश चन्द्रा ने बताया कि जो बच्चे किसी कारण से छूट जायेंगे उन्हें एक मार्च को दवा खिलायी जायेगी. चन्द्रा ने संवाददाताओं को बताया कि कृमि संक्रमण का बच्चों के स्वास्थ्य और उनके समग्र विकास पर बहुत खराब प्रभाव पड़ सकता है. कृमि संक्रमण की रोकथाम और नियंत्रण के लिए एल्बेंडाजॉल दवा का सेवन एक सुरक्षित, लाभदायक एवं प्रभावी उपाय है जो वैश्विक स्तर पर स्वीकृत है. उन्होंने बताया कि 1-19 वर्ष के सभी बच्चों एवं किशोरों के पोषण स्तर में सुधार लाने के लिए राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस की तैयारी में राज्य सरकार ने बच्चों को दवा खिलाने के लिए 82047 शिक्षकों और 57738 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित किया है.

आपके पेट में हैं ऐसे हजारों बैक्‍टीरिया, जिनसे मिलेगी इस रोग के उपचार में मदद

पहले चरण में इतने बच्‍चों ने खाई थी दवा
राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम के महाप्रबन्धक डा. मनोज शुक्ला ने बताया कि राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस के अगस्त 2018 चरण में पूरे प्रदेश में 5.05 करोड बच्चों और किशोर…किशोरियों को 2.17 लाख स्कूलों और 1.82 लाख आंगनबाड़ी केंद्रों में कृमि नियंत्रण की दवा खिलाई गयी थी. इनमें निजी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों की संख्या 1.15 करोड़ थी और 27.1 लाख स्कूल न जाने वाले बच्चे भी शामिल थे.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.