नोएडा: राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) और यूपी एटीएस ने सात फरवरी को प्रदेश के मुजफ्फरनगर से हवाला के जरिए आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा को कथित रूप से धन मुहैया कराने वाले दो व्यापारियों को गिरफ्तार किया है. ये गिरफ्तारियां बिहार के औरंगाबाद से पकड़े गए लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी शेख अब्दुल नईम के बयान के आधार पर हुर्ई हैं. Also Read - टेरर फंडिंग मामले में एनआईए की बड़ी कार्रवाई, दिल्ली और श्रीनगर के नौ ठिकानों पर की छापेमारी

उत्तर प्रदेश आतंकवाद रोधी दस्ते (एटीएस) में पुलिस उपाधीक्षक अनूप सिंह ने बताया कि एनआईए और एटीएस ने एक संयुक्त कार्रवाई के तहत मुजफ्फरनगर जिले से दिनेश गर्ग और आदेश कुमार जैन नामक दो व्यापारियों को गिरफ्तार किया है. उन्होंने बताया कि दिनेश के पास से 15 लाख रूपये, दो देसी तमंचे, एक पिस्तौल, लैपटॉप, कई मोबाइल फोन और सामरिक महत्व के दस्तावेज बरामद हुए हैं, जबकि जैन के पास से 32 लाख 84 हजार रुपये, चीन में बनी पिस्तौल समेत कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेज और विदेशी मुद्रा बरामद हुई हैं. Also Read - NIA Recruitment 2020: NIA में इंस्पेक्टर, सब इंस्पेक्टर पदों पर निकलीं भर्तियां, इस डेट से पहले ऑफलाइन मोड में भरे फॉर्म

उन्होंने बताया कि एनआईए ने लश्कर-ए-तैयबा से संबंधित कुछ आतंकवादियों को पहले गिरफ्तार किया था, जिनमें शेख अब्दुल नईम, धनु राजा, तौसीफ अहमद, महफूज आलम और अब्दुल समद शामिल हैं. इन लोगों से पूछताछ के आधार पर पता चला कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुछ जौहरी लश्कर-ए-तैयबा को हवाला के जरिए आर्थिक सहायता दे रहे हैं. Also Read - पहल: उप्र के इस जिले ने पेश की मिसाल, घर की नेमप्लेट पर मां, पत्नी या बेटी का नाम

पुलिस उपाधीक्षक ने बताया कि इस मामले में जांच चल रही है। कुछ और लोगों की गिरफ्तारियां हो सकती हैं.