बरेली: हलाला और तीन तलाक के खिलाफ आवाज उठाने वाली आला हजरत खानदान की पूर्व बहू निदा खान के खिलाफ तथाकथित फतवा जारी किए करने के मामले में उनके पूर्व पति और शहर इमाम समेत तीन लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है. गौरतलब है कि बुधवार को निदा ने अपने खिलाफ फ़तवा जारी करने वाले मौलवियों और अपने पूर्व पति के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी.

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मुनिराज जी. ने गुरुवार को बताया कि खान की तहरीर पर उनके पूर्व पति शीरान रजा खां, शहर इमाम मुफ्ती खुर्शीद आलम और मुफ्ती अफजाल रजवी के खिलाफ बरेली शहर के बारादरी थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है. उन पर तिरस्कार करने, धार्मिक भावनाओं का अपमान करने और धमकी देने आदि के संबंध में मामला दर्ज किया गया है. बरेली में फतवे पर मुकदमे का सम्भवतः यह पहला मामला है.

बरेली: निदा खान ने फतवा जारी करने वाले मौलवियों के खिलाफ कराई एफआईआर

शीरान पर मनचाहे फतवे जारी कराने का आरोप
पुलिस सूत्रों के मुताबिक खान कल तहरीर लेकर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के दफ्तर पहुंची थी मगर उनके व्यस्त होने की वजह से उन्होंने पुलिस क्षेत्राधिकारी रामप्रकाश को तहरीर सौंपी दी थी. तहरीर में खान ने कहा है कि वर्ष 2015 में उनकी शादी आला हजरत खानदान के शीरान रजा खां से हुई थी. बाद में उनका तलाक हो गया. अब उनके बीच कई मुकदमे चल रहे हैं. शीरान उनके खिलाफ मनचाहे फतवे जारी कराते रहते हैं.

तीन तलाक, हलाला के खिलाफ लड़ने वाली निदा खान पर दरगाह आला हजरत सख्‍त, इस्‍लाम से किया खारिज

तीन तलाक, गैर शरई हलाला और बहु विवाह के खिलाफ लड़ रहीं निदा
निदा खान अपने तलाक के बाद से इस्लाम के विरुद्ध दी जाने वाली तीन तलाक, गैर शरई हलाला और बहु विवाह के खिलाफ मुस्लिम महिलाओं के हक की भी लड़ाई लड़ रही हैं. आरोप है कि इसी के चलते 16 जुलाई को उनके पति शीरान रजा खां ने अपने एक मुरीद शहर इमाम मुफ्ती मुहम्मद खुर्शीद आलम के नाम से फतवा, मरकजी दारुल इफ्ता, दरगाह आला हजरत के मुफ्ती अफजाल रजवी से मांगा था, जो जारी कर दिया गया.

धर्म के ठेकेदार महिलाओं के वजूद को खत्म करने की साजिश कर रहे हैं: निदा खान

फतवे में हुक्‍का-पानी बंद करने का हुक्‍म
उस तथाकथित फतवे में खान के लिए तौबा की शर्त लगाते हुए कई पाबंदियों की बात लिखी गई थी. हुक्का-पानी बंद करने, उनके जनाजे में किसी मुसलमान को ना जाने और कब्रिस्तान में दफनाने के लिए जमीन न देने का हुक्म दिया था. खान का कहना है कि फतवा जारी होने के बाद उनकी और परिवार के लोगों की जान को खतरा है.

UP: तलाक पीड़ित महिला से पति ने ससुर के बाद देवर से हलाला करने की रखी शर्त