नोएडा : आय से अधिक संपत्ति मामले में नोएडा प्राधिकरण में सहायक परियोजना अभियंता के पद पर तैनात बृजपाल चौधरी को नोएडा प्राधिकरण के अध्यक्ष एवं सीईओ आलोक टंडन ने निलंबित कर कर दिया है. गौरतलब है कि गुरूवार को चौधरी के कई ठिकानों पर इनकम टैक्स विभाग ने छापा मारा था और अभी आयकर विभाग की कार्रवाई चल ही रही है. निलंबन के साथ ही सहायक परियोजना अभियंता के खिलाफ विभागीय जांच की प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है. Also Read - संजय राउत ने पूर्व CM फडणवीस से मुलाकात की बताई वजह, कहा- 'हमारे बीच वैचारिक मतभेद हो सकते हैं लेकिन...'

नोएडा प्राधिकरण के मीडिया सेल ने इस मामले से सम्बंधित पत्र जारी किया है. विभाग की मीडिया सेल के मुताबिक बृजपाल चौधरी के खिलाफ निलंबन की कार्रवाही आय से अधिक संपति रखने के मामले में इनकम टैक्स डिपार्टमेंट द्वारा की जा रही छापे की कार्रवाई के बाद किया गया है. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने चौधरी के सभी बैंक खातों के लेन-देन पर भी रोक लगा दी है. नोएडा प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी आलोक टंडन ने अभियंता चौधरी के आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने के मामले में विभागीय जांच के भी आदेश दिए. सहायक परियोजना अभियंता के खिलाफ जांच अधिकारी के तौर पर मुख्य परियोजना अभियंता संदीप चंद्रा को नियुक्त किया गया है. Also Read - Home Remedies For White Discharge: अगर हो रही है व्हाइट डिस्चार्ज की समस्या, तो अपनाएं ये घरेलू नुस्खे मिलेगा आराम

निलंबन आदेश में चेयरमैन ने लिखा है कि बृजपाल चौधरी के कृत्य से नोएडा प्राधिकरण व उत्तर प्रदेश सरकार की छवि धूमिल हुई है. इसलिए उन्हें तत्काल प्रभाव से निलंबित किया जा रहा है.
आयकर विभाग के सूत्रो के अनुसार छापेमारी के दौरान चौधरी के फरीदाबाद और नोएडा सहित प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में कई मकान, फैक्ट्रियां, होटल, भूखंड, कृषि फर्म तथा स्कूल आदि के बारे में जानकारी मिली है. इनकम टैक्स विभाग ने फिलहाल चौधरी और उनके परिजनों के सारे बैंक खातों को फ्रीज कर दिया है. अधिकारियों का कहना है कि जांच पूरी होने तक सभी बैंक खातों से लेन-देन पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगा. Also Read - Sarkari Naukri 2020: UPSC Recruitment 2020: UPSC ने इन विभिन्न पदों पर निकाली वैकेंसी, लाखों में मिलेगी सैलरी, बस होना चाहिए ये क्वालीफिकेशन

बता दें कि आयकर विभाग ने गुरूवार को नोएडा प्राधिकरण के सहायक परियोजना अभियंता (सिविल) बृजपाल चौधरी के कई ठिकानों पर छापेमारी की थी. छापेमारी के दौरान विभाग को चौधरी के पास अकूत सम्पत्ति का पता चला है. जिसमे मकान, फैक्ट्रियां, होटल, भूखंड, कृषि फर्म आदि का पता चला है. आयकर विभाग की कार्रवाई के बाद विभागीय कार्रवाई में बृजपाल को निलंबित कर दिया गया है. अभियंता के खिलाफ विभागीय जांच भी शुरू हो चुकी है.