नोएडा: ड्रग माफिया के निशाने पर दूर दराज के इलाकों से आर्थिक रूप से कमजोर पृष्ठभूमि वाले छात्र हैं. ड्रग माफिया ऐसे छात्रों को पैसे कमाने का लालच देकर उनसे मादक पदार्थों की बिक्री करवा रहे हैं. एशो आराम की जिन्दगी जीने को लालायित कुछ छात्र इनके चंगुल में फंस रहे हैं, ये खुलासा पुलिस ने किया है. नोएडा के नॉलेज पार्क पुलिस थाना क्षेत्र में शुक्रवार को गलगोटिया कॉलेज में पढ़ने वाले बी-टेक प्रथम वर्ष के 2 छात्रों को गांजा बेचने के आरोप में गिरफ्तार किया है. जिनमें से एक उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ का रहने वाला है जबकि दूसरा बिहार का रहने वाला है.

गाजियाबाद: गोली मारकर प्रॉपर्टी डीलर की हत्या, कार में पड़ा था खून से लथपथ शव

विशेष टीम का गठन
पुलिस ने गिरफ्तार छात्रों के पास से 700 ग्राम गांजा बरामद किया है. गौरतबल है कि इससे पहले भी पुलिस ने बुधवार रात को शारदा विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले बीबीए के एक छात्र को गांजा बेचने के आरोप में गिरफ्तार किया था. पुलिस सूत्रों का दावा है कि ग्रेटर नोएडा में पढ़ने वाले 100 से ज्यादा छात्र पैसे के लालच में मादक पदार्थ बेचने का धंधा कर रहे हैं. पुलिस ने एक विशेष टीम बनाकर उनकी गिरफ्तारी शुरू कर दी है.

बुलंदशहर हिंसा: घटना के कारणों व दोषियों को ब्‍योरा देने वाली रिपोर्ट तैयार, जल्‍द ही सीएम को देंगे

ग्रामीण पुलिस अधीक्षक विनीत जयसवाल ने बताया कि थाना नॉलेज पार्क के प्रभारी निरीक्षक अरविंद पाठक ने आज एक गोपनीय सूचना के आधार पर गलगोटिया कॉलेज से बी-टेक की पढ़ाई कर रहे दो छात्रों अलीगढ़ जिला निवासी अनुज एवं बिहार के रहने वाले अक्षत को गिरफ्तार किया है. उन्होंने बताया कि इनके पास से पुलिस ने 700 ग्राम गांजा भी बरामद किया है. अधिकारी ने बताया कि पूछताछ के दौरान पकड़े गए छात्रों ने पुलिस को बताया कि वे ऐशो आराम की जिन्दगी जीने के लिए मादक पदार्थ बेचने का काम कर रहे हैं. उन्होंने बताया कि पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला है कि मादक द्रव बेचने वाले माफिया सुदूर क्षेत्रों से आए गरीब परिवार के छात्रों को अपने गैंग में शामिल करके उनसे मादक द्रव्य बिकवा रहे हैं. पुलिस का कहना है कि चंद रुपयों के लालच में ये छात्र ड्रग्स के काले कारोबार के दलदल में फंसते जा रहे हैं. (इनपुट एजेंसी)