नोएडा: पश्चिमी यूपी एसटीएफ ने शुक्रवार रात एक मुठभेड़ के दौरान दो कुख्यात डकैतों को गिरफ्तार किया. एक अधिकारी ने बताया कि ये बदमाश बावरिया गिरोह के सदस्य हैं. पश्चिमी यूपी एसटीएफ के एसपी राजीव नारायण मिश्रा ने बताया कि शुक्रवार रात एक गुप्त सूचना के आधार पर एसटीएफ एवं थाना नॉलेज पार्क पुलिस ने एक संयुक्त कार्रवाई करते हुए दो कुख्यात बावरिया डकैतों को गिरफ्तार किया. Also Read - खुद की पिस्तौल से चली गोली से हुई थी स्‍टोन क्रशर व्यवसायी इंद्रकांत त्र‍िपाठी की मौत: एडीजी

Also Read - UP Police Recruitment 2020: पुलिस विभाग में 16 हजार से अधिक पदों पर होंगी भर्तियां, सीधी भर्तियों का भी है मौका, जानें पूरी डिटेल

कार लूटकर भाग रहे बदमाशों से पुलिस की मुठभेड़: एक बदमाश की मौत, दो फरार Also Read - सिंगापुर की कंपनी ने यूपी की फिल्‍म सिटी में एक करोड़ डॉलर का निवेश करने की पेशकश की

उन्होंने बताया कि पकड़े गए बदमाशों में फर्रुखाबाद जनपद निवासी दीपक और भरतपुर निवासी फूल सिंह है. दीपक के सिर पर उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा 50,000 रुपये का इनाम घोषित किया गया था. इन बदमाशों ने लखनऊ, फर्रुखाबाद व बाराबंकी में एक के बाद एक खूनी डकैती डालकर दहशत फैला दी थी. मिश्रा ने बताया कि पूछताछ के दौरान पकड़े गए डकैतों ने पुलिस को बताया है कि उन्होंने वर्ष 2018 में लखनऊ, फर्रुखाबाद और बाराबंकी में डकैती की बहुत सी घटनाओं को अंजाम दिया था. इन घटनाओं में तीन लोग मारे भी गए थे.

रायबरेली में पुलिस मुठभेड़ पर सवाल, पकड़े गए बदमाश ने कहा- दिन में पकड़ा और रात मार दी गोली

एसपी ने बताया कि पकड़े गए बदमाशों ने इससे पूर्व हरियाणा, मध्य प्रदेश, राजस्थान में भी कई अपराध किए हैं. इस गिरोह का सरगना विनोद बावरिया है जिसके ऊपर एक लाख रुपये का इनाम घोषित था और जिसे यूपी एसटीएफ पूर्व में गिरफ्तार कर चुकी है. एसपी ने बताया कि पूछताछ के दौरान पकड़े गए बदमाशों ने भारत के कई राज्यों में लूटपाट की सैकड़ों वारदातों को अंजाम देने की बात मानी है. इनके पास से पुलिस ने एक मोटरसाइकिल और दो तमंचे बरामद किए.