वाराणसी: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय ने सोमवार को कहा कि ओम प्रकाश राजभर ने चुनाव के दौरान हद पार कर दी थी. इसीलिए उन्हें मंत्रीपद से बर्खास्त कर दिया गया है. उन्होंने कहा कि उनका विभाग अनिल राजभर को दे दिया गया है.

बर्खास्त होने के बाद राजभर ने कहा, हक मांगना बगावत है तो समझो हम बागी हैं

महेंद्र नाथ ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि भाजपा ने राजभर समाज का हमेशा आदर किया है. भाजपा बड़े भाई की भूमिका के कारण उन्हें बर्दास्त कर रही थी. उन्होंने सारी हदें पार कर दी थी. हम उन्हें सुधरने का मौका दे रहे थे. अब राजभर समाज के कल्याण के लिए उनका विभाग पिछड़ा वर्ग कल्याण व समाज कल्याण विभाग अनिल राजभर को दे दिया गया है. भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि ओमप्रकाश राजभर ने हर कदम पर गठबंधन धर्म की मर्यादा का न केवल उल्लंघन किया, बल्कि उसे तार-तार भी किया. इसलिए पार्टी और सरकार के मुखिया योगी आदित्यनाथ जी दोनों को ही सख्त निर्णय लेने पर विवश होना पड़ा है.

लोकसभा चुनाव खत्म होते ही यूपी के मंत्री ओपी राजभर पर गिरी गाज, बर्खास्त

राजभर ने गाजीपुर में मोदी की उपस्थिति में दी गाली
राजभर को लोकसभा चुनाव बाद हटाए जाने के सवाल पर महेंद्र नाथ ने कहा कि यह निर्णय तब लिया गया, जब दो दिन पूर्व मऊ के हलधर थाने में उन्होंने गाली-गलौच की थी. महागठबंधन के बारे में उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव अपने पिता से सीखें. वह नरेंद्र मोदी की तपस्या पर टिप्पणी न करके अपने पिता से सीखें. इस मौके पर अनिल राजभर ने कहा कि सुहेल देव पर डाक टिकट जारी करते समय ओमप्रकाश राजभर ने गाजीपुर में मोदी की उपस्थिति में गाली दी थी. ओमप्रकाश राजभर ने हदें पार कर दीं.

लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com