लखनऊ: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आजमगढ़ में CAA के खिलाफ प्रदर्शन करने वालों पर पुलिस की कार्रवाई और उनकी गिरफ्तारी को लेकर सरकार पर हमला बोला और कहा कि आजमगढ़ में पुलिस की बर्बरता ने सभी हदें पार कर दी हैं और वह इस कार्रवाई की घोर निंदा करते हैं. उन्होंने ट्वीट के माध्यम से कहा, “हर मंच से गोली की बात करने वाले संवैधानिक मूल्यों की बात कब करेंगे? शांतिपूर्वक धरना लोगों का संवैधानिक अधिकार है. आजमगढ़ में पुलिस की बर्बरता ने सभी हदें पार कर दी और मैं इसकी घोर निंदा करता हूं. पार्टी के विधायक और संगठन बिलरियागंज में लोगों की सेवा कर रहे हैं.”

आजमगढ़ जिले के बिलरियागंज कस्बे के मौलाना जौहर अली पार्क में बुधवार को प्रदर्शन के दौरान तड़के चार बजे जब महिलाओं के समर्थन में खड़े युवाओं की गिरफ्तारी शुरू हुई तो प्रदर्शनकारी पथराव करने लगे जिससे एसपी सिटी समेत सात पुलिसकर्मी घायल हो गए. इसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले छोड़ कर प्रदर्शन करने वालों को हटा दिया. इसमें कुछ लोग घायल हुए हैं. सुबह मैदान में पानी भरवा दिया गया.

एसओ की तहरीर पर 35 नामजद और 100 अज्ञात पर मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने मौलाना ताहिर मदनी समेत 19 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने तीन लोगों की पहचान कर उन पर सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के आरोप में 25-25 हजार का इनाम घोषित किया है. पुलिस का दावा है कि सीएए के विरोध प्रदर्शन के जरिए जिले में दंगा भड़काने की साजिश रची गई थी.