लखनऊ: भाजपा के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष महेन्द्रनाथ पाण्डेय ने विपक्ष पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने विपक्षी दलों की भूमिका पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि जो लोग विपक्ष में रहते हुए भी एसी कमरों से बाहर नहीं निकले, उन्हें मोदी-योगी की सरकारों पर सवाल उठाने का कोई नैतिक हक नहीं है. उन्होंने  कहा कि विपक्ष के पास कोई मुद्दा नहीं है इसलिए कभी असहिष्णुता तो कभी मॉब लिंचिंग जैसे शब्दों का प्रयोग कर जनता को गुमराह करने की कोशिश कर रहा है.

सीएम योगी आदित्यनाथ बोले- दलितों के लिए AMU और जामिया में क्यों नहीं मांगते आरक्षण

पीएम मोदी की प्राथमिकता उत्तर प्रदेश
महेंद्र नाथ पाण्डेय के मुताबिक सत्ता में होने के बावजूद भाजपा का संगठन और सरकार दोनों ही जनता के बीच जाकर जनआकांक्षाओं के अनुरूप काम कर रही है.उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी स्वयं अपने सवा साल के कार्यकाल के भीतर ही प्रदेश के सभी जिलों का दौरा कर जमीनी हकीकत समझ-परख कर जनहित में फैसले किए हैं और ऐसा करने वाले योगी प्रदेश के पहले सीएम हैं जिन्होंने अपने 16 माह के कार्यकाल में प्रदेश के सभी 75 जिलों का दौरा करके खुद प्रदेश के वास्तविक स्थिति का जायजा लिया.

योगी सरकार के मंत्री का विवादित बयान, कहा- सभी हिन्‍दू कम से कम पांच बच्‍चे पैदा करें

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष पाण्डेय ने कहा कि मोदी-योगी की सरकार उत्तर प्रदेश के विकास के लिए संकल्पबद्ध होकर काम कर रही है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्राथमिकता में भी उत्तर प्रदेश है. यही कारण है कि जहां उज्ज्वला सहित कई अन्य जनकल्याणकारी योजनाओं की शुरूआत उत्तर प्रदेश में की गई, वहीं प्रधानमंत्री आवास योजना, सहित अन्य कल्याणकारी योजनाओं के लाभार्थियों की संख्या की सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश की ही है.

निवेशकों का भरोसा बढ़ा
उन्होंने कहा कि पूर्ववर्ती सपा-बसपा की सरकारों में जहां उत्तर प्रदेश भ्रष्टाचारियों और अपराधियों का हब बन गया था वहीं मोदी-योगी सरकार में उत्तर प्रदेश में तमाम जनकल्याणकारी योजनाएं शुरू हुईं. अपराधमुक्त उत्तर प्रदेश का परिणाम रहा है कि निवेशकों का भरोसा बढा. जिसका नतीजा है कि प्रधानमंत्री 60 हजार करोड़ रूपये से अधिक की परियोजनाओं की आधारशिला 29 जुलाई को राजधानी लखनऊ में रखेंगे. प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि विपक्षी दल लगातार जनता को गुमराह करने के लिए मॉब लिंचिंग जैसे शब्दों का प्रयोग कर रहे है.

उन्होंने कहा विपक्ष मुद्दा विहीन है और उसके पास मोदी सरकार के खिलाफ कोई भी मुद्दा नहीं है इसीलिए समय-समय पर कभी असहिष्णुता तो कभी मॉब लिंचिग जैसे शब्दों को मुद्दा बनाकर सरकार को घेरने की वे असफल कोशिशें कर रहे हैं.