Oxygen crisis in Noida Kailash Hospital नोएडा स्थित कैलाश हॉस्पिटल में कुछ ही घंटों के लिए ऑक्सीजन बची है. खुद अस्पताल प्रशासन ने इसकी जानकारी दी है. अस्पताल ने कहा है कि जिले में उसके चार अस्पताल हैं और सभी जगहों पर ऑक्सीजन की कमी का संकट मंडरा रहा है.Also Read - एनटीपीसी के पूर्व जीएम से एक करोड़ 62 लाख रुपये की ठगी, आप भी न करें ऐसी गलती

कैलाश अस्पताल का कहना है कि उनके पास कुछ और घंटों के लिए ही ऑक्सीजन बचा है. ग्रुप मेडिकल डायरेक्टर, डॉ. रितु बोहरा ने बताया, “हमारे पास गौतम बौद्ध नगर में 4 अस्पताल हैं, सभी में संकट है. हमें बताया गया है कि हमें ऑक्सीजन की सप्लाई अगले 36 घंटे के बाद मिलेगी. हमने मरीजों की भर्ती रोक दी है.” Also Read - यूपी: देश-विदेश में नौकरी लगवाने का झांसा देकर बेरोजगारों से करते थे ठगी, गिरोह के 10 सदस्य गिरफ्तार

बता दें कि कोरोनावायरस की दूसरी लहर से जूझ रहे पूरे देश में इस समय ऑक्सीजन की कमी का संकट देखा जा रहा है. महाराष्ट्र और दिल्ली एनसीआर के कई अन्य अस्पतालों में भी ऑक्सीजन की कमी का संकट देखा जा रहा है. यहां तक कि कई अस्पतालों ने नए मरीजों को भर्ती करने से इनकार कर दिया है. Also Read - घूमिये नोएडा का एक ऐसा रेस्टोरेंट जहां इंसान नहीं बल्कि रोबोट परोसते हैं टूरिस्टों को खाना

इस बीच देश के कोविड-19 की मौजूदा लहर से जूझने के बीच, उच्चतम न्यायालय ने बृहस्पतिवार को कहा कि वह ऑक्सीजन की आपूर्ति तथा कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए आवश्यक दवाओं समेत अन्य मुद्दों पर “राष्ट्रीय योजना” चाहता है.

प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव और न्यायमूर्ति एस आर भट की तीन सदस्यीय पीठ ने गंभीर स्थिति का स्वत: संज्ञान लेते हुए कहा कि वह देश में कोविड-19 टीकाकरण के तौर-तरीके से जुड़े मुद्दे पर भी विचार करेगी.