लखनऊ: यूपी के मेरठ जिले में दलित किशोरी से दो युवकों ने गैंगरेप कर वीडियो बना ली. इसके बाद वीडियो क्लिप वायरल करने की धमकी देकर चार महीने तक गैंगरेप करते रहे. किशोरी के गर्भवती होने पर मामला खुला तो गांव में पंचायत हुई. पंचायत ने तीन लाख रुपये में मामला निपटाने का दवाब बनाया, जिसमें दो लाख रुपये मौके पर और एक लाख रुपये किशोरी के गर्भपात कराने पर देने की बात कही गई. किशोरी के घरवालों ने पंचायत के खिलाफ मामले की शिकायत पुलिस में की है.

जानकारी के मुताबिक, दलित किशोरी से गैंगरेप का मामला मेरठ जिले के खरखौदा थाना क्षेत्र के एक गांव का है. बताया गया है कि गांव की दलित किशोरी अपने घरवालों के साथ रोजाना दूसरे गांव में जाकर मेहनत मजदूरी करती थी. इसके जरिए ही उनके परिवार का गुजर बसर हो रहा था. एक दिन जब किशोरी दूसरे गांव में काम करने गई तो उस गांव के दो युवकों ने उसे दबोच लिया और गन्‍ने के खेत में ले जाकर बारी-बारी से दुराचार किया. इस दौरान युवकों ने किशोरी की वीडिया भी बना ली. इसके बाद आरोपियों ने किसी से घटना के बारे में कोई बात बताने पर वीडियो क्लिप वायरल करने की धमकी दी और चले गए. डरी सहमी किशोरी ने घर वालों को कुछ नहीं बताया. फिर कुछ दिनों बाद वहीं आरोपी युवकों ने वीडिया क्पिल वायरल करने की धमकी देकर गैंगरेप किया. इसके बाद किशोरी के साथ यह दरिंदगी चार महीने तक होती रही. इस दौरान जब किशोरी गर्भवती हो गई तो उसके घरवालों को गैंगरेप का पता चला. इस पर पीडि़ता के घरवालों ने आरोपी युवकों के घर जाकर शिकायत की.

एमपी: बारात से लौट रही नाबालिग लड़की से गैंगरेप के आरोप में तीन गिरफ्तार, एक फरार

पंचायत ने किशोरी की इज्‍जत तीन लाख रुपये तय की
किशोरी के परिजनों ने जब युवकों के घरवालों से शिकायत की तो गांव में पंचायत बुलाई गई. इस दौरान पंचायत ने दलित किशोरी की इज्‍जत की कीमत तीन लाख तय कर दी. पंचायत में कहा गया कि दो लाख रुपये किशोरी के घर वालों को फौरन दिए जाएं, जबकि बाकी के एक लाख रुपये किशोरी के गर्भपात कराने के बाद देने को कहा गया. इस पर किशोरी के घरवालों ने पंचायत के फैसले से इनकार करते हुए पुलिस में शिकयत करने की बात कही. हालांकि पूरे मामले को एएसपी ने तहरीर न मिलने की बात कहकर टाल दिया.

घर में घुसकर युवती से गैंगरेप, पीड़िता को जान से मारने की धमकी देकर आरोपी फरार