लखनऊ: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को यूपी की राजधानी में पूर्व प्रधानमंत्री दिवंगत अटल बिहारी वाजपेयी की प्रतिमा का अनावरण किया. पीएम मोदी ने कहा, यूपी में विरोध के नाम पर जिन लोगों ने सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाया और हिंसा में शामिल थे, उन्‍हें आत्‍मनिरीक्षण करना चाहिए कि उन्‍होंने जो किया वह सही था? कार्यक्रम में पीएम मोदी ने सीएसी और एनआरसी के विरोध में हुई हिंसा को लेकर कहा कि हम अपना दायित्व निभाएं, अपने लक्ष्यों को प्राप्त करें, यही सुशासन दिवस पर हमारा संकल्प होना चाहिए, यही जनता की अपेक्षा है, यही अटल जी की भी भावना थी.

भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन पर यहां पहुंचे मोदी ने लोकभवन परिसर में स्थित उनकी करीब 25 फुट ऊंची प्रतिमा का अनावरण किया. पीएम यहां ने अटल बिहारी वाजपेयी मेडिकल यूनिवर्सिटी की भी आधारशिला रखी.

हमें अटल जी की एक और बात अवश्य याद रखनी चाहिए
आज सुशसन दिवस पर जब हम नए वर्ष और नए दशक में प्रवेश करने जा रहे हैं तब हमें अटल जी की एक और बात अवश्य याद रखनी चाहिए. अटल जी कहते थे कि हर पीढ़ी भारत की प्रगति में योगदान का मूल्यांकन दो बातों के आधार पर होगा. पहला – हमें जो विरासत में मिली कितनी समस्याओं को हमने सुलझाया है. दूसरा- राष्ट्र के भावी विकास के लिए हमने अपने खुद के प्रयासों से कितनी मजबूत नींव रखी है.

युवाओंं से कर्तव्यों और दायित्वों केे न‍िर्वहन की अपील 
कहा कि आज अटल सिद्धि की इस धरती से मैं यूपी के युवा साथियों को, यहां के हर नागरिक को एक और आग्रह करने आया हूं. आजादी के बाद के वर्षों में हमने सबसे ज्यादा जोर अधिकारों पर दिया है, लेकिन अब हमें अपने कर्तव्यों, अपने दायित्वों पर भी उतना ही बल देना है.

हक और दायित्व को हमें साथ-साथ और हमेशा याद रखना
प्रधानमंत्री ने कहा कि हक और दायित्व को हमें साथ-साथ और हमेशा याद रखना है. उत्तम शिक्षा, सुलभ शिक्षा हमारा हक है, लेकिन शिक्षा के संस्थानों की सुरक्षा, शिक्षकों का सम्मान, हमारा दायित्व है.

सुशासन का अर्थ
पीएम ने कहा, -हमारी सरकार के लिए सुशासन का अर्थ है- सुनवाई, सबकी हो. सुविधा हर नागरिक तक पहुंचे. सुअवसर हर भारतीय को मिले. सुरक्षा हर देशवासी अनुभव करे और सुलभता, सरकार के हर तंत्र की सुनिश्चित हो.

रोहतांग टनल, अब अटल टनल के नाम से
मोदी ने कहा, आज देश के लिए बहुत महत्वपूर्ण एक बड़ी परियोजना का नाम अटल जी को समर्पित किया गया है. हिमाचल प्रदेश को लद्दाख और जम्मू कश्मीर से जोड़ने वाली, मनाली को लेह से जोड़ने वाली, रोहतांग टनल, अब अटल टनल के नाम से जानी जाएगी.

2024 तक देश के हर घर तक जल पहुंचाने का बड़ा कदम
पानी का विषय अटल जी के लिए बहुत महत्वपूर्ण था, उनके हृदय के बहुत करीब था. अटल जल योजना हो या फिर जल जीवन मिशन से जुड़ी गाइडलाइंस, ये 2024 तक देश के हर घर तक जल पहुंचाने के संकल्प को सिद्ध करने में एक बड़ा कदम हैं. अटल जल योजना में इसलिए ये भी प्रावधान किया गया है कि जो ग्राम पंचायतें पानी के लिए बेहतरीन काम करेंगी, उन्हें और ज्यादा राशि दी जाएगी, ताकि वो और अच्छा काम कर सकें.

पानी का ये संकट चिंताजनक
पीएम ने कहा- पानी का ये संकट एक परिवार के रूप में, एक नागरिक के रूप में हमारे लिए चिंताजनक तो है ही, एक देश के रूप में भी ये विकास को प्रभावित करता है. न्यू इंडिया को हमें जल संकट की हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार करना है. इसके लिए हम पांच स्तर पर एक साथ काम कर रहे हैं.

पांच साल में 15 करोड़ घरों तक पीने का पानी पहुंचाना है
पीएम ने कहा 18 करोड़ ग्रामीण घरों में से सिर्फ 3 करोड़ घरों में. 70 साल में इतना ही हो पाया था. अब हमें अगले पांच साल में 15 करोड़ घरों तक पीने का साफ पानी पाइप से पहुंचाना है.

जल जीवन मिशन और अटल जल योजना दो मिशन
जल शक्ति मंत्रालय ने इस संकलित दृष्टिकोण ( Compartmentalized Approach) से पानी को बाहर निकाला और व्यापक दृष्टिकोण (Comprehensive Approach) को बल दिया. इसी मानसून में हमने देखा है कि समाज की तरफ से, जलशक्ति मंत्रालय की तरफ से जल संरक्षण (Water Conservation) के लिए कैसे व्यापक प्रयास हुए हैं. एक तरफ जल जीवन मिशन है, जो हर घर तक पाइप से जल पहुंचाने का काम करेगा और दूसरी तरफ अटल जल योजना है, जो उन क्षेत्रों पर विशेष ध्यान देगी जहां ग्राउंड वॉटर बहुत नीचे है.

प्रधानमंत्री ने वाजपेयी की प्रतिमा का अनावरण किया
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को यहां पूर्व प्रधानमंत्री दिवंगत अटल बिहारी वाजपेयी की प्रतिमा का अनावरण किया. भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन पर यहां पहुंचे मोदी ने लोकभवन परिसर में स्थित उनकी करीब 25 फुट ऊंची प्रतिमा का अनावरण किया और उन्हें पुष्पांजलि अर्पित की.

मेडिकल यूनिवर्सिटी की रखी आधारशिला रखी
पीएम मोदी ने अटल बिहारी वाजपेयी चिकित्सा विश्वविद्यालय की भी आधारशिला रखी. इस विश्वविद्यालय के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने 50 एकड़ भूमि दी है. इस मौके पर लखनऊ से सांसद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, राज्यपाल आनंदी बेन पटेल और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद थे. वाजपेयी पांच बार वर्ष 1991, 1995, 1998, 1999 और 2004 में लखनऊ से सांसद चुने गए थे.