लखनऊ: आईआईटी कानपुर में पीएचडी के एक छात्र ने हॉस्‍टल के कमरे में फांसी लगाकर आत्‍महत्‍या कर ली. आईआईटी प्रशासन की सूचना पर पुलिस ने छात्र के कमरे का दरवाजा तोड़कर शव को फंदे से नीचे उतारा. मौके पर पहुंची फॉरेंसिक टीम ने जांच कर शव को पोस्‍टमार्टम के लिए भेज दिया. फिलहाल आत्‍महत्‍या के कारणों का पता नहीं चल सका है. पुलिस पूरे मामले की जांच में जुटी हुई है. Also Read - Haryana Lockdown Update : हरियाणा के 9 जिलों में लगाया गया वीकेंड लॉकडाउन, गुरुग्राम सहित इन जिलों में रहेंगी पाबंदियां; जाने फुल डिटेल

Also Read - Delhi NCR Top 5 Tourist Places: घूमने का कर रहे है प्लान तो जाए नॉएडा, फरीदाबाद, गुरुग्राम की इन अनदेखी जगहों पर

जानकारी के मुताबिक, फरीदाबाद के सेक्‍टर आठ में रहने वाले करन सिंह का पुत्र भीम सिंह आईआईटी कानपुर से पीएचडी कर रहा था. वह मैकनिक विभाग से पीएचडी में तीसरे वर्ष का छात्र था. आईआईटी कैंपस के हॉस्‍टल हॉल नंबर आठ के एक कमरे में रहता था. बुधवार को भीमसिंह करमे से बाहर नहीं निकला था, जबकि सेमेस्‍टर परीक्षा की तैयारी के लिए लगातार क्‍लास चल रही थी. जब वह क्‍लास में नहीं पहुंचा तो उसके साथी छात्रों ने फोन किया, लेकिन उसका फोन बंद आया. इस पर छात्रों ने सोचा कि शायद वह बीमार हो. लेकिन वह मेस में खाना खाने भी नहीं आया. दिनभर उसके न दिखाई देने पर साथी छात्रों ने खोजबीन शुरू की. छात्रों ने उसके कमरे का दरवाजा खटखटाया, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला. इस पर छात्रों ने हॉस्‍टल के सुरक्षा कर्मियों को जानकारी दी. इस दौरान छात्रों ने कमरे की खिड़की से अंदर देखा तो भीम सिंह का शव पंखे से लटकता दिखा. इस पर छात्रों के होश उड़ गए. Also Read - Nikita Tomar murder case: निकिता हत्याकांड में अदालत का बड़ा फैसला, दोनों दोषी तौसीफ और रेहान को सुनाई उम्र कैद की सजा

पढ़ें: आईआईटी-दिल्ली में पीएचडी की छात्रा ने की आत्महत्या, मौके से नहीं मिला कोई सुसाइड नोट

हत्‍या की सूचना से आईआईटी में हड़कंप

आईआईटी के हॉस्‍टल में छात्र के आत्‍महत्‍या की सूचना से वहां हड़कंप मच गया. आईआईटी प्रशासन ने पूरे मामले की सूचना पुलिस को दी. सूचना पर पुलिस के साथ फॉरेसिंक टीम भी मौके पर पहुंची. पुलिस टीम ने जांचकर जरूरी साक्ष्‍य जुटाए और शव को पोस्‍टमार्टम के लिए भेज दिया. पुलिस को छात्र के कमरे से कागज के छोटे-छोटे टुकडे मिले. पुलिस ने इन टुकडों को कब्जे में ले लिया है. फोरिंसिक टीम ने टुकडों को जोड़कर पढ़ने की कोशिश भी की. लेकिन सफलता नहीं मिली. भीम का लैपटॉप, मोबाइल, पैनड्राइव, डायरी और अन्य कुछ कागज भी पुलिस ने कब्जे में ले लिए हैं.