UP News: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में 9650 करोड़ रुपये से अधिक की विकास परियोजनाएं जनता को समर्पित किया. पीएम मोदी ने आज गोरखपुर में खाद कारखाने, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) और क्षेत्रीय चिकित्सा अनुसंधान केंद्र (RMRC) का लोकार्पण किया. इस दौरान जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने विपक्ष की समाजवादी पार्टी पर जोरदार हमला बोला.Also Read - UP Election 2022: BJP ने 85 में से 49 सीटों पर OBC और SC समाज के लोगों को टिकट दिए, मुलायम के समधी को भी उम्मीदवार बनाया

पीएम मोदी ने कहा कि आज पूरा यूपी भली-भांती जानता है कि लाल टोपी वालों को लाल बत्ती से मतलब रहा है, आपकी दुख-तकलीफों से नहीं. लाल टोपी वालों को सत्ता चाहिए, घोटालों के लिए, अपनी तिजोरी भरने के लिए, अवैध कब्जों के लिए, माफियाओं को खुली छूट देने के लिए. लाल टोपी वालों को सरकार बनानी है, आतंकवादियों पर मेहरबानी दिखाने के लिए, आतंकियों को जेल से छुड़ाने के लिए और इसलिए, याद रखिए लाल टोपी वाले यूपी के लिए रेड अलर्ट हैं यानि खतरे की घंटी है. Also Read - BJP Candidates List: बीजेपी ने प्रत्याशियों की नई लिस्ट जारी की, कांग्रेस से आईं अदिति सिंह और पूर्व IPS असीम अरुण को टिकट

Also Read - BJP Theme Song: यूपी चुनाव के लिए बीजेपी का थीम सॉन्ग लॉन्च, 'सोच ईमानदार, काम दमदार' है टैग लाइन

पीएम मोदी ने कही ये बातें…. 

पीएम मोदी ने कहा कि आजादी के बाद से इस सदी की शुरुआत तक देश में सिर्फ 1 एम्स था. अटल जी ने 6 और एम्स अस्पतालों को स्वीकृति दी थी. बीते 7 वर्षों में 16 नए एम्स बनाने पर देशभर में काम चल रहा है. पीएम ने कहा कि हमारा लक्ष्य ये है कि देश के हर जिले में कम से कम एक मेडिकल कालेज जरूर हो.

पीएम ने कहा कि जब मैंने एम्स का शिलान्यास किया था, तो मैंने कहा था कि हम दिमागी बुखार से इस क्षेत्र को राहत दिलाने के लिए पूरी मेहनत करेंगे. हमने दिमागी बुखार फैलाने की वजह को दूर करने पर भी काम किया और इसका उपचार भी किया. आज गोरखपुर और बस्ती डिविजन के 7 जिलों में दिमागी बुखार के मामले करीब 90% तक कम हो गए हैं.

पीएम ने कहा कि गोरखपुर खाद कारखाने की बहुत बड़ी भूमिका देश को यूरिया के उत्पादन में आत्मनिर्भर बनाने में भी होगी. देश के अलग-अलग हिस्सों में बन रहे 5 फर्टिलाजर प्लांट शुरु होने के बाद 60 लाख टन अतिरिक्त यूरिया देश को मिलेगा. ये कारखाना राज्य के अनेक किसानों को पर्याप्त यूरिया तो देगाा ही, इससे पूर्वांचल में रोजगार और स्वरोजगार के नए अवसर प्राप्त होंगे.