PM Modi’s UP Visit: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) सोमवार को उत्तर प्रदेश के दौर पर रहे. पहले सिद्धार्थनगर से उन्होंने सुबह राज्य के अलग-अलग जिलों में बने 9 मेडिकल कॉलेज का डिजिटल माध्यम से उद्घाटन किया और फिर दोपहर में वह धार्मिक नगरी काशी यानी अपने चुनाव क्षेत्र वाराणसी (Varanasi) पहुंचे.Also Read - Omicron symptoms News: दक्षिण अफ्रीकी डॉक्टरों ने बताए कोरोना के नए वारियंट ओमीक्रोन के लक्षण

वाराणसी में पीएम मोदी ने 64 हजार करोड़ से ज्यादा के आयुष्मान भारत हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर मिशन को लॉन्च किया. उन्होंने कहा स्वास्थ्य से जुड़ी इतनी बड़ी योजना की शुरुआत के लिए काशी से अच्छी जगह नहीं हो सकती. इस अवसर पर उन्होंने देशवासियों को बधाई दी. पीएम मोदी ने देश में 100 करोड़ वैक्सीन डोज (100 Crore Vaccine Dose) के बड़े पड़ाव को पूरा करने की उपलब्धि पर कहा, यह बाबा विश्वनाथ के आशीर्वाद और मां गंगा के अविरल प्रवाह का ही प्रभाव है कि सबको वैक्सीन, मुफ्त वैक्सीन अभियान सफलता से आगे बढ़ रहा है. Also Read - Omicron Scare: इंटरनेशनल फ्लाइट्स की बहाली के सवाल पर मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने दिया ये जवाब

प्रधानमंत्री ने स्वास्थ्य के महत्व को समझाते हुए कई बातें कहीं. चलिए जानते हैं –

  1. 64 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा के आयुष्मान भारत हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर मिशन को लॉन्च करते हुए पीएम मोदी ने कहा, भविष्य की महामारियों के लिए हेल्थ सिस्टम को आज तैयार किया जा रहा है. हमारे यहां हर कर्म का मूल आधार आरोग्य माना गया है. शरीर को स्वस्थ रखने के लिए किया गया निवेश हमेशा उत्तम निवेश माना गया है.
  2. स्वास्थ्य क्षेत्र के पिछड़ने को लेकर पीएम मोदी ने पूर्व की सरकारों को आड़े हाथ लिया. उन्होंने कहा, आजादी के बाद के कालखंड में स्वास्थ्य सेवाओं पर उतना ध्यान नहीं दिया गया, जितनी जरूरत थी. जिनकी लंबे समय तक सरकारें रहीं, उन्होंने देश के हेल्थ केयर क्षेत्र के संपूर्ण विकास की बजाय उसे वंचित रखा. गांवों में अस्पताल नहीं थे, अस्पताल थे तो सुविधाएं नहीं थी. जिला मुख्यालय में भी इलाज की पूरी व्यवस्था नहीं थी.
  3. देश के हेल्थ सेक्टर के अलग-अलग गैप्स को एड्रेस करने के लिए आयुष्मान भारत हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर मिशन के 3 बड़े पहलू हैं. पहला, डाइग्नॉस्टिक और ट्रीटमेंट के लिए विस्तृत सुविधाओं के निर्माण से जुड़ा है. जिसके तहत गांवों और शहरों में हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर खोले जा रहे हैं, जहां बीमारियों को शुरुआत में ही डिटेक्ट करने की सुविधा होगी. इन सेंटरों में फ्री मेडिकल कंसलटेशन, फ्री टेस्ट, फ्री दवा जैसी सुविधाएं मिलेंगी. दूसरा पहलू, रोगों की जांच के लिए टेस्टिंग नेटवर्क से जुड़ा है. इस मिशन के तहत, बीमारियों की जांच, उनकी निगरानी कैसे हो, इसके लिए जरूरी इंफ्रास्ट्रक्चर का विकास किया जाएगा.
  4. यूपी में जिस तेजी के साथ नए मेडिकल कॉलेज खोले जा रहे हैं, उसका बहुत अच्छा प्रभाव मेडिकल की सीटों और डॉक्टरों की संख्या पर पड़ेगा. ज्यादा सीटें होने की वजह से अब गरीब माता-पिता का बच्चा भी डॉक्टर बनने का सपना देख सकेगा और उसे पूरा कर सकेगा. अगले 10-12 साल में देश में इतने नए डॉक्टर होंगे, जितने आजादी के बाद आज तक नहीं बने.
  5. आज काशी का हृदय वही है, मन वही है, लेकिन काया को सुधारने का ईमानदारी से प्रयास हो रहा है. जितना काम वाराणसी में पिछले 7 साल में हुआ है, उतना पिछले कई दशकों में नहीं हुआ. काशी में आधुनिक ट्रीटमेंट लगाया गया है, जिसने काम करना शुरू कर दिया है. इससे वरुणा और गंगा नंदी में गंदगी को जाने से रोका जा रहा है. आज कभी लुप्तप्राय वरुणा में स्वच्छ जल पहुंच रहा है.
  6. काशी सहित संपूर्ण पूर्वांचल के किसानों की फसलों को देश-विदेश में पहुंचाने के लिए यहां बहुत काम किया गया है. लाल बहादुर शात्री फ्रूट एंड वैजिटेबल मार्केट को रिन्यु किया गया है. उससे किसानों को फायदा होगा.
  7. बीते सालों की एक और बड़ी उपलब्धि अगर काशी की रही है, तो वो है BHU का फिर से दुनिया में श्रेष्ठता की तरफ अग्रसर होना. आज टेक्नॉलॉजी से लेकर हेल्थ तक, BHU में अभूतपूर्व सुविधाएं तैयार हो रही हैं. देशभर से यहां युवा साथी पढ़ाई के लिए आ रहे हैं.
  8. इस दिवाली वोकल फॉर लोकल को समर्थन दें. जब हम बात लोकल की करते हैं तो अक्सर मिट्टी के बर्तन और दीये बनाने वालों को दिखाया जाता है. यह सही बात है, लेकिन लोकल सिर्फ यहीं तक सीमित नहीं है. हर वो सामना लोकल है, जिसे बनाने में देश के मजदूरों का पसीना लगा है. जब आप दीपावली की खरीददारी करें, तो हमारे देश में समान बनाने वालों का ध्यान रखें. हम सबको मिलकर काम करना होगा. सबके प्रयास से बहुत बड़ा परिवर्तन हम ला सकते हैं.
  9. सिद्धार्थनगर से 9 मेडिकल कॉलेजों के वर्चुअल उद्घाटन समारोह में पीएम मोदी ने कहा, 9 नए मेडिकल कॉलेज खुलने से अब हमारे पास 2500 अतिरिक्त बेड उपलब्ध होंगे. पीएम मोदी ने कहा, 5000 रोजगार के अवसर बढ़ेंगे. पिछली सरकारों ने पूर्वांचल के लोगों को बीमारियों से लड़ने के लिए अकेले छोड़ दिया था, लेकिन अब यह उत्तर भारत का मेडिकल हब बनने जा रहा है.
  10. पिछली सरकारों ने सिर्फ अपने परिवारों के लॉकर भरे और अपने लिए कमाई की, लेकिन हमारा उद्देश्य गरीबों के धन की रक्षा करना और उन्हें सुविधाएं उपलब्ध कराना है. पिछली सरकारों ने पूर्वांचल की छवि को बर्बाद कर दिया था. उनके राज में यह इलाका दिमागी बुखार के कारण बदनाम था.
Also Read - Omicron के डर के बीच तेलंगाना के एक स्‍कूल की 45 स्‍टूडेंट और एक टीचर COVID-19 पॉजिटिव मिलीं