लखनऊ: राजधानी पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी ने अमृत, स्मार्ट सिटी व प्रधानमंत्री आवास योजना की 3,897 करोड़ रुपये की 99 परियोजनाओं का शिलान्यास व लोकार्पण किया. गोमती नगर के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में हुए ‘ट्रांस्फार्मिंग अर्बन लैंडस्केप’ कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे पीएम मोदी ने कहा कि मुझ पर चौकीदार नहीं, भागीदार होने का इल्जाम लगा है. तो हां, मैं गरीब दुखियारी मां का भागीदार हूं. मैं चूल्हा फूंकने वाली महिलाओं की परेशानी का भागीदार हूं. मैं परेशान किसानों का भागीदार हूं. मैं सेना का भागीदार हूं. नौकरी चाहने वाले युवाओं की दिक्कतों का भागीदार हूं. उन्होंने कहा कि मुझे गर्व है कि मैं गरीब मां का बेटा हूँ. गरीबी ने मुझे ईमानदारी बताई. दुःख दर्द मैंने करीब से देखा है. बता दें कि राहुल गांधी ने संसद में उन पर कई मामलों में चौकीदार नहीं भागीदार होने का इल्जाम लगाया था. Also Read - भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच कई रक्षा समझौते, दोनों देश एक-दूसरे के सैन्य अड्डे करेंगे प्रयोग

आजादी के ठीक बाद नहीं हुआ काम
पीएम मोदी स्मार्ट शहर योजना की बात करते हुए कहा कि आजादी के बाद जब नए सिरे से राष्ट्र निर्माण का दायित्व हमारे कंधे पर था, तब हमारे शहरों को बसाने की जिम्मेदारी थी, लेकिन तब शहरों को बेतरतीब तरीके से फैलने दिया. कहा गया कि मेरा घर भरो, जिसे जो करना है, वो करे. इसीलिए पीढियां अव्यवस्थाओं से जूझते हुए निकल रही हैं. लटकते तार, गंदा पानी, जाम ऐसी समस्याएं नए भारत को परिभाषित नहीं कर सकती. इसीलिए स्मार्ट शहर की परियोजना बनाई गई. इसके लिए सात हजार करोड़ की योजनाओं का काम पूरा हो चुका है. 52 हजार करोड़ की योजनाओं का काम शहरों में चल रहा है. इन योजनाओं का उद्देश्य मध्यमवर्गीय व गरीब लोगों के जीवन को आसान बनाना है. Also Read - ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री ने पीएम मोदी से कहा- आपको 'गुजराती खिचड़ी' बनाकर खिलाऊंगा, समोसों का भी हुआ ज़िक्र

अपने बंगले सजाना था पहले की सरकारों का काम
पीएम ने कहा कि लखनऊ में मेट्रो का काम तेजी से चल रहा है. आगे भी झाँसी सहित कई शहरों में ऐसा होगा. उन्होंने कहा कि अटल बिहारी वाजपेई का नाम लखनऊ से जुड़ा है. पीएम ने कहा कि वो सरकारें ही ऐसी थी. हम पत्र लिखते थे कि काम करो, लेकिन उनका वन टाइम प्रोग्राम था कि अपने बंगले को सजाना संवारना. उससे फुर्सत मिले तब दूसरों का घर बने.

लोगों ने अपने आप सब्सिडी छोड़ी
ऑनलाइन सेवाओं ने लाइन लगाने का सिस्टम बंद हो गया. ये कतारें ही भ्रष्टाचार की जड़ थीं. इस देश में सब्सिडी देश की राजनीति से जुड़ गई थी, लेकिन हमने की और करोड़ों लोगों ने सब्सिडी छोड़ दी. रेलवे यात्रा तक में 40 लाख लोगों ने सब्सिडी छोड़ दी. 46 हजार सक्षम लोगों ने सरकारी योजना से मिले घर वापस कर दिए. ये बड़ी बात है.

लाभार्थी महिलाओं से की चर्चा
इससे पहले पीएम मोदी ने प्रधानमंत्री आवास योजना की लाभार्थी महिलाओं से मुलाकात की. महिलाओं के साथ उन्होंने योजना के बारे में चर्चा की. करीब 10 मिनट तक महिलाओं के साथ बैठ वह बातचीत करते रहे. इस दौरान उन्होंने महिलाओं से कई सवाल पूछे. महिलाओं ने आवास योजना के लिए पीएम का आभार जताया. कई महिलाओं ने उनके पैर छू लिए. पीएम यहां प्रधानमंत्री आवास योजना के लखनऊ, वाराणसी, बिजनौर, गाजीपुर व मिर्जापुर के लाभार्थियों को चाबी सौंपी. उन्होंने देश के कई शहरों के मेयरों को सम्मानित किया. इसके बाद मोदी लखनऊ से दिल्ली के लिए रवाना हो गए हैं. वह रविवार को फिर लखनऊ आएंगे. रविवार को वह औद्योगिक निवेश के लिए ग्राउंड सेरेमनी के शुभारंभ कार्यक्रम में शामिल होंगे.

भारत की पूरी दुनिया में सराहना: राजनाथ सिंह
गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री ने जो संकल्प लिया है कि 2022 तक अलग भारत होगा. भारत की पूरी दुनिया में सराहना की जा रही है. लखनऊ अटल बिहारी वाजपेयी का संसदीय क्षेत्र रहा है, इसीलिए पीएम ने महत्वपूर्ण योजनाओं की शुरुआत करने पहुंचे हैं. उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी की कल्पना पीएम मोदी ने 2014 से पहले की थी.

पीएम का अब तक का कार्यकाल सफल: सीएम योगी
सीएम योगी आदित्यनाथ ने देश की महत्वपूर्ण योजनाओं की तीसरी वर्षगाँठ व योजना के तहत कई नई शुरुआत करने के लिए यूपी को चुनने के लिए आभार जताया. उन्होंने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन मील का पत्थर साबित हुआ है. पीएम का अब तक का कार्यकाल सफल रहा है.